मुख्य न्यायमूर्ति ने लालगंज सिविल कोर्ट मे किया दो न्यायिक कक्षों का समारोहपूर्वक भूमिपूजन

अधिवक्ताओं ने सीजे को सौपा ज्ञापन, प्रसन्नता

फोटो-01, 02 सिविल न्यायालय परिसर मे पौधरोपण करते मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिन्दल

03 सिविल न्यायालय परिसर मे न्यायिक कक्षों का भूमि पूजन करते मुख्य न्यायमूर्ति

04 सिविल न्यायालय परिसर मे न्यायिक कक्षों की आधारशिला रखते मुख्य न्यायमूर्ति

लालगंज, प्रतापगढ़। स्थानीय दीवानी न्यायालय परिसर मे रविवार को उत्सव भरे माहौल मे इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिन्दल ने दो न्यायिक कक्षों की आधारशिला रखी। वहीं मुख्य न्यायधिपति राजेश बिन्दल ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के प्रशासनिक जज न्यायमूर्ति राहुल चतुर्वेदी तथा जनपद न्यायाधीश संजय शंकर पाण्डेय के साथ इन बनने वाले न्यायिक कक्षों की भी आधारशिला रखी। वैदिक मंत्रोच्चारण के मध्य मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिन्दल के द्वारा आधारशिला रखते ही कार्यक्रम मे मौजूद अधिवक्ताओं के भी चेहरे खिल उठे। अधिवक्ताओं ने करतल ध्वनि से सिविल न्यायालय की उपलब्धियों को लेकर मुख्य न्यायमूर्ति के प्रति आभार जताने की मुद्रा मे नजर आये। वहीं समारोह मे जिलाधिकारी डा. नितिन बंसल तथा एसपी सतपाल अंतिल ने जिला प्रशासन की ओर से मुख्य न्यायमूर्ति को बुकें भेंट कर स्वागत किया। मुख्य न्यायमूर्ति के सम्मान मे पुलिस सशस्त्र बल ने उन्हें गॉर्ड ऑफ ऑनर के तहत विशेष सलामी भी प्रदान किया। स्थानीय दीवानी न्यायालय की सिविल जज ललिता यादव ने कार्यक्रम का संयोजन किया। आधारशिला को यादगार बनाने के लिए मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिन्दल तथा न्यायमूर्ति राहुल चतुर्वेदी व जिला जज संजय शंकर पाण्डेय ने परिसर मे पौधरोपण भी किये। मुख्य न्यायमूर्ति ने प्रशासनिक जज के साथ सिविल कोर्ट की व्यवस्थाओं का भी अवलोकन किया। वहीं संयुक्त अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राममोहन सिंह तथा रूरल बार एसोशिएसन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ज्ञानप्रकाश शुक्ल ने मुख्य न्यायमूर्ति व प्रशासनिक जज को अधिवक्ताओं की ओर से बुकें भेंट कर सम्मानित किया। नगर पंचायत की ओर से चेयरपर्सन प्रतिनिधि संतोष द्विवेदी ने मुख्य न्यायमूर्ति व प्रशासनिक जज को बुकें तथा स्मृति चिन्ह प्रदान कर नगर के लोगों व सभासदो की ओर से स्वागत किया। वहीं मुख्य न्यायमूर्ति व प्रशासनिक जज ने सभागार मे संयुक्त अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राममोहन सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष उमेश नारायण तिवारी तथा उपाध्यक्ष संतोष पाण्डेय व महामंत्री प्रवीण यादव के नेतृत्व मे अधिवक्ताओं के शिष्ट मण्डल से भी औपचारिक मुलाकात की। अधिवक्ताओं ने मुख्य न्यायमूर्ति को सिविल न्यायालय मे अधिवक्ताओं के चैंबर तथा पुलिस थानों के क्षेत्राधिकार मे वृद्धि किये जाने के साथ चार सूत्रीय मांग पत्र पर ध्यान आकृष्ट कराया। मुख्य न्यायमूर्ति ने सिविल न्यायालय के अधिवक्ताओं के उत्तरदायित्वों की प्रशंसा करते हुए वादकारी हित मे सार्थक भूमिका के लिए प्रेरित भी किया। प्रतिनिधिमण्डल मे पूर्व अध्यक्ष ज्ञानप्रकाश शुक्ल, अनिल त्रिपाठी महेश, विकास मिश्र व विनोद मिश्र भी शामिल रहे। इस मौके पर एएसपी रोहित मिश्र, सीओ रामसूरत सोनकर, ईओ सुभाषचंद्र सिंह भी मौजूद रहे।