वकील पर जानलेवा फायरिंग के आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर बढ़ा आक्रोश, हुई तालाबंदी

फोटो-01, 02 साथी पर जानलेवा हमले पर आक्रोश जताते लालगंज के अधिवक्ता।

लालगंज, प्रतापगढ़। संयुक्त अधिवक्ता संघ के पूर्व अध्यक्ष देवी प्रसाद मिश्र पर कातिलाना हमले के आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर बुधवार को वकीलों का पारा सातवें आसमान पर चढ़ा दिखा। वकीलों ने पूर्व घोषित चेतावनी के तहत पुलिस व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए तहसील मे तालाबंदी कर दी। तालाबंदी के चलते तहसील मे प्रशासनिक एवं न्यायिक कामकाज दिन भर ठप रहा। वहीं सिविल न्यायालय मे भी अधिवक्ता के प्रकरण को लेकर वकीलों ने न्यायिक कामकाज से विरत रहने का प्रस्ताव सौपा। बुधवार को सुबह वकील तहसील परिसर मे जमा हुए। वकीलो ने संयुक्त अधिवक्ता संघ के महामंत्री प्रवीण यादव की अगुवाई मे प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इसके बाद गुस्साये वकीलो ने तहसील के दफ्तरो मे तालाबंदी कर दी। इसके कारण तहसील मे दिन भर न्यायिक व प्रशासनिक कामकाज ठप दिखा। हालांकि वकीलो के आक्रोश को देखते हुए एसडीएम समेत कोई भी अफसर तहसील परिसर मे देर शाम तक नजर भी नही आया। वहीं दीवानी न्यायालय परिसर मे भी संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष उमेश नारायण तिवारी की अध्यक्षता मे हुई बैठक मे घटना को लेकर आक्रोश जताया गया। नाराज वकीलों ने सिविल जज ललिता यादव को ज्ञापन सौंपते हुए न्यायिक कामकाज से विरत रहने का प्रस्ताव भी सौंपा। वकीलो ने पूर्व अध्यक्ष देवी प्रसाद पर फायरिंग करने वाले आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन और तेज किये जाने की भी चेतावनी दी है। इस मौके पर उपाध्यक्ष संतोष पाण्डेय, अजय शुक्ल गुडडू, पवन पाण्डेय, अनिल महेश, संदीप सिंह, प्रमोद सिंह, शशिशेखर पाण्डेय, वीरेन्द्र सिंह, रामकुमार पाण्डेय, सुरेश मिश्र, रामअभिलाष यादव, इरफान, प्रमोद तिवारी, घनश्याम मिश्र, दिनेश मिश्र, शेष तिवारी आदि अधिवक्ता रहे।