*टीकाकरण अभियान:कर्मियों ने घरों में दी दस्तक, खेत में काम करनेवालाें ने भी लिया टीका*

राजेश तिवारी

जिले में कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण का अभियान तेजी से किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के इस प्रयास में है कि जल्द से जल्द सभी लोगों का टीकाकरण कर कोरोना वायरस से सुरक्षित किया जा सके। अभी तक इस जिले में 2501642 लोगों को टीकाकरण किया गया है जबकि इसमें 1710128 लोगों को फर्स्ट 2 की बाइक से दी गई है। जबकि दूसरे डोज की वैक्सीन से 791514 लोगों को दी गई है। एक समय यह भी था कि कोविड टीका लेने के लिए लंबी-लंबी कतारें लगती थी। लोग सुबह हीं घर से निकल कर लाइन में लग जाते थे। वैक्सीन की कमी भी लोगों को झेलनी पड़ती थी। यहां तक कि वैक्सीन के लिए मारपीट भी हो जाती थी। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की पहल ने टीकाकरण अभियान की तस्वीर को हीं बदल कर रखा दी है। टीकाकरण के शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल करने के लिए विभाग के द्वारा नयी -नयी पहल की जा रही है। मंगलवार को जिले में हर घर दस्तक अभियान की शुरुआत की गयी। जिसके तहत स्वास्थ्य कर्मियों ने घर-घर जाकर टीकाकरण से वंचित लोगों को वैक्सीन लगायी । इसके साथ चिमनी भट्‌टा पर कार्य करने वाले मजदूरों, खेत-खलिहानों में किसानों को भी जीवन रक्षा की डोज दी गयी। हर-घर दस्तक अभियान शुरू होने से लोगों को काफी सहूलियत हो रही है। जो लोग भीड़ देखकर टीकाकरण केंद्रों पर जाने से कतराते थे वह लोग भी अब अपने घर पर हीं टीकाकरण करा रहे हैं। शरीरिक रूप से असमर्थ व्यक्तियों को भी आसानी से घर पर हीं टीकाकरण किया गया।

 

इनकार करने वालों को समझाकर दिया गया टीका

सिविल सर्जन डॉ. यदुवंश कुमार शर्मा ने कहा कि इस अभियान के दौरान जिले के कई क्षेत्रों में वैक्सीन लेने से इनकार करने वाले लोगों को भी स्वास्थ्यकर्मियों और सहयोगी संस्थाओं के प्रतिनिधियों के प्रयास से समझा-बुझाकर टीकाकरण किया गया। लोगों को टीकाकरण के महत्व के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। जिसके बाद लोगों ने आसानी से अपना टीकाकरण कराया तथा एक-दूसरे को भी प्रेरित करने की बात कहीं। माइक्रोप्लान के अनुसार मोटरसाइकिल टीम के द्वारा घर-घर जाकर हर व्यक्ति को टीका दिया जा रहा है।

 

जिला एवं प्रखंडस्तर पर बनाया गया कंट्रोल रूम

 

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार पांडेय ने बताया कि हर घर दस्तक अभियान के सफल क्रियान्वयन को लेकर जिला एवं प्रखंड स्तर पर कंट्रोल रूम स्थपित किया गया है। कंट्रोल रूम के माध्यम से टीकाकरण की पल-पल की जानकारी ली जा रही है। इसके साथ जिला एवं प्रखंड स्तर पर सघन अनुश्रवण भी किया जा रहा है। कार्य का सभी स्तर पर सघन पर्यवेक्षण एवं अनुश्रवण किया जा रहा है। इस हेतु जिला से लेकर स्थानीय स्तर तक अनुश्रवण टीम का गठन कर कार्य का अनुभवण सुनिश्चित किया गया है।

 

घरों की मार्किंग कर रहे हैं स्वास्थ्यकर्मी

यदि घर के सभी सदस्यों के द्वारा प्रथम खुराक ले ली गयी है तो सीआईपी, यदि किसी सदस्य के द्वारा प्रथम खुराक नहीं ली गयी है तो सीआइएक्स, यदि घर के सभी सदस्यों के द्वारा दोनों खुराक ले ली गयी है तो सीटूपी, यदि दूसरी खुराक नहीं ली गयी है तो सीटूएक्स मार्किंग की जा रही है।