मासूम के साथ दुराचार हत्या के मुकदमे में कोर्ट द्वारा 5लाख रुपए जुर्माना व कारावास

आजमगढ़ 5 वर्षीय दलित मासूम के साथ दुराचार के बाद हत्या के मुकदमे में सुनवाई पूरी करने के बाद अदालत ने एक आरोपी को 20 वर्ष का कारावास और पांच लाख रुपए की जुर्माना की सजा सुनाई अदालत ने यह भी आदेश दिया कि जुर्माने की राशि को मृतका के पिता को दिया जाए

यह फैसला विशेष न्यायाधीश पॉक्सो कोर्ट रवीश कुमार अत्री की अदालत में शुक्रवार को सुनाया

आपको बता दें कि यह मामला मुबारकपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में 21 नवंबर 2019 की रात आरोपी रामप्रवेश चौहान उर्फ लाला पुत्र महेंद्र चौहान निवासी पिचरी थाना मुबारकपुर 5 वर्षीय मासूम लड़की को सोते समय उठा ले गया और उसके साथ दुराचार करने के बाद गला दबाकर हत्या कर दी फिर आरोपी ने लड़की की लाश को एक पास के पोखरे के पास फेंक दिया पुलिस ने जांच पूरी करने के बाद आरोपी रामप्रवेश चौहान के विरुद्ध चारसीट न्यायालय में प्रेषित कर दिया फिर उसके बाद विशेष लोक अभियोजक अवधेश कुमार मिश्रा ने पीड़िता के पिता समेत कुल 8 गवाहों को न्यायालय में पेश किया दोनों पक्षों की दलीलो को सुनने के बाद अदालत ने आरोपी रामप्रवेश को दोषी पाया लेकिन घटना के दिन आरोपी की उम्र 17 साल से अधिक और 18 साल से कम होने के कारण नाबालिक मांगते हुए अदालत ने 20 वर्ष का कारावास तथा पांच लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई