ट्रांसफार्मर ब्लॉस्ट में मृत युवक का शव हाइवे पर रखकर परिजनों ने लगाया जाम, साढे पांच घण्टे लगे जाम से हलाकान रहे नगरवासी व राहगीर

मामले मे अधिशाषी अभियंता व सहायक अभियंता के खिलाफ दर्ज हुआ लापरवाही का मुकदमा

फोटो-02 लालगंज हाइवे पर जाम लगाये लोग

03 अफसरों को मांग पत्र देतीं मृतक की पत्नी रेशमा सिंह

04 जाम के दौरान बेहोश हुई मृतक की बेटी का ट्रामा सेंटर मे चल रहा इलाज

लालगंज, प्रतापगढ़। ट्रामा सेंटर के समीप बीते बीस अक्टूबर को ट्रांसफार्मर मे हुए ब्लास्ट से पांच घायलो मे से एक की शुक्रवार को इलाज के दौरान मौत हो गयी थी। घटना से आक्रोशित परिवार के लोगों व गा्रमीणों ने शनिवार की सुबह वाराणसी लखनऊ राजमार्ग पर शव रखकर जाम लगा दिया। परिवार के लोग मृतक की पत्नी को नौकरी के साथ ही मृतक आश्रितों को पचास लाख की आर्थिक सहायता, आवास आदि की मांग करने लगे। जाम के दौरान हाइवे घण्टो बाधित रहा। मौके पर पहुंचे एएसपी, एडीएम के समझाने पर किसी तरह परिवार के लोग माने और करीब साढ़े पांच घंटे बाद जाम समाप्त हुआ। इसके बाद परिजन शव को अंतिम संस्कार करने के लिए श्रृंगवेरपुर लेकर चले गये। लालगंज स्थित ट्रामा सेंटर के समीप लगा ट्रांसफार्मर बीते बीस अक्टूबर को दोपहर ऑक्सीजन प्लांट मे टेस्टिंग के दौरान ब्लास्ट हो गया था। इससे एक महिला समेत पांच लोग झुलस गये थे। गंभीर रूप से झुलसे चार लोगों को इलाज के लिए एसआरएन मेडिकल कालेज प्रयागराज भेजवाया गया था। जहां इलाज के दौरान शुक्रवार को लालगंज के भदारी कला निवासी सूर्यभान सिंह पुत्र स्व. जगदीश बहादुर सिंह की मौत हो गयी। प्रयागराज मे मृतक का पीएम होने के बाद राहत मे परिजन शव लेकर घर पहुंचे तो कोहराम मच गया। घटना को लेकर लोग आक्रोशित हो उठे और विद्युत विभाग के अधिशाषी अभियंता एवं सहायक अभियंता के खिलाफ लापरवाही का आरोप लगाने लगे। आक्रोशित परिजन ग्रामीणों के साथ शनिवार की सुबह आठ बजे शव लेकर ट्रामा सेंटर के सामने हाइवे पर पहुंचे और शव को हाइवे पर रखकर जाम लगा दिया। लोग पुलिस प्रशासन व विद्युत विभाग के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। जानकारी होते ही पुलिस प्रशासन के हाथ पांव फूल गये। आननफानन मे मौके पर एएसपी पश्चिमी रोहित मिश्र, एडीएम सुनील शुक्ल, एसडीएम कुण्डा सतीश त्रिपाठी, सीओ कुण्डा अर्जुन सिंह पहुंच गये। शांति सुरक्षा को लेकर एक प्लांटून पीएसी व लालगंज फोर्स के साथ सांगीपुर व महेशगंज की भी फोर्स बुला ली गई। अफसर परिवार के लोगों को समझाने मे लगे रहे लेकिन परिजन मांगो के पूरी होने तक जाम हटाने पर राजी नही हुए। जाम लगाये स्वजन मृतक आश्रित को पचास लाख रूपये की आर्थिक सहायता, मृतक की पत्नी को स्थायी नौकरी, दोषियों के खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई, मृतक आश्रित को आवास एवं जब तक आर्थिक सहायता व नौकरी नही मिलती तब तक परिवार का गुजारा शासन द्वारा वहन करने की मांग पर अड़े रहे। पीड़ित पक्ष से भाजपा के जिलाध्यक्ष हरिओम मिश्र समेत तमाम स्थानीय भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी पहुंच गये। घटना को लेकर विद्युत विभाग की ओर से मृतक की पत्नी के नाम दो लाख का चेक प्रदान किया। वहीं विभाग की ओर से जांच के बाद मृतक की पत्नी के नाम तीन लाख का चेक आगे दिये जाने का आश्वासन भी दिया गया है। जाम लगाये लोगों को अफसर समझाने मे जुटे रहे। करीब साढे पांच घंटे बाद अफसरों द्वारा मांगो को शीघ्र पूरा कराये जाने का आश्वासन दिया गया। इसके बाद परिजन माने और शव को अंतिम संस्कार के लिए श्रृंगवेरपुर लेकर चले गये। जाम समाप्त होने पर पुलिस प्रशासन के लोगों ने राहत की सांस ली। इधर साढे पांच घंटे तक हाइवे पर लगे जाम के चलते राहगीरों व स्थानीय लोगों को आवागमन मे खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। जाम को लेकर लोग पुलिस प्रशासन को कोसते नजर आये। हालांकि जाम लगने के बाद सक्रिय हुई पुलिस ने रूट डायवर्जन कर दिया। हाइवे पर स्थित वर्मा नगर से रूट डायवर्ट करके बडे वाहनो को धधुआगाजन के पास निकाला गया एवं छोटे वाहनो को संगम चौराहे के पास से रूट डायवर्ट करके पास किया गया। बावजूद इसके लोग हलाकान नजर आये। वहीं घटना को लेकर मृतक के भतीजे नीतेश प्रताप सिंह पुत्र चंद्रभान सिंह द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर लालगंज केातवाली पुलिस ने अधिशाषी अभियंता एवं सहायक अभियंता के खिलाफ लापरवाही का मुकदमा भी दर्ज किया है। एडीएम सुनील शुक्ल ने बताया कि मांगो को पूरा कराए जाने का आश्वासन दिया गया है, इसके बाद परिवार के लोगों ने जाम समाप्त किया। शव को अंतिम संस्कार के लिए श्रृंगवेरपुर लेकर चले गये।