*राई से पर्वत ले ईहवां*

*जे बा उ सब बा रउवे से*

*बाकिर अपनो अंगनइया के*

*लिलरा चमकत चान हईं हम*

*बखरा में अन्हियारी ढोवत*

*ए सरकार किसान हईं हम*

 

गाजीपुर।जनपद के मुहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र के करीमुद्दीनपुर स्थित उत्सव वाटिका में आयोजित कवि संजीव कुमार त्यागी के भोजपुरी कविता संग्रह ए सरकार किसान हईं हम के भव्य लोकार्पण समारोह में पीठाधीश्वर राजगुरु मठ वाराणसी दण्डी स्वामी अनन्तानन्द सरस्वती महाराज एवं मुख्य अतिथि डाक्टर मुन्ना कुमार पाण्डेय प्रोफेसर दिल्ली विश्वविद्यालय के द्वारा किया गया।इस कार्यक्रम की अध्यक्षता चन्द्रकेश राय पूर्व राज्य विधि अधिकारी उत्तर प्रदेश के द्वारा की गयी।कार्यक्रम में रवि जी प्रचारक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ.डा०जनार्दन राय वरिष्ठ साहित्यकार बलिया.बृजमोहन प्रसाद अनारी वरिष्ठ साहित्यकार. डाक्टर बैजनाथ पाण्डेय प्रवक्ता डायट चंदौली. रजनीश राय निवर्तमान राष्ट्रीय प्रवक्ता भाजपा किसान मोर्चा.कृष्ण कान्त राय डी पी ओ देवरिया. हर्षवर्धन दिक्षित सारण.स्वामी प्रदुम्न समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

कार्यक्रम की शुरुआत मां शारदा के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन कर किया गया।आयोजन समिति के द्वारा सभी अतिथियों का माल्यार्पण. अंगवस्त्रम. एवं स्मृति चिन्ह भेट कर सम्मान किया गया।कार्यक्रम का संचालन विश्वजीत शेखर राय प्रधान संपादक तमकुही समाचार के द्वारा किया गया।अपने संबोधन में डाक्टर मुन्ना कुमार पाण्डेय ने संजीव कुमार त्यागी के भोजपुरी में लिखित पुस्तक की सराहना करते हुवे उन्हे शुभकामनाएं दी।आपने भोजपुरी भाषा को समृद्ध बनाने की बात कही और इसे नियमित बोल चाल में अपनाने की अपील की।उन्होंने कहा की भोजपुरी भाषा का कोई जोड नहीं है।दण्डी स्वामी अनन्तानन्द सरस्वती ने संजीव त्यागी के इस शानदार प्रयास की सराहना करते हुए कहा की भोजपुरी भाषा दमदार भाषा है।इसे बोलने में हमें किसी से शर्म या झिझक की आवश्यकता नहीं है।भोजपुरी भाषा में जो मिठास है वह किसी अन्य भाषा में नहीं है।अगर हम सभी भोजपुरी भाषी इसे महत्व दें तो इसकी सुगंध सर्वत्र फैल जायेगी।आज इस भाषा की जो हालत है उसके जिम्मेदार हम सभी है।आपने संजीव त्यागी को आशिर्वाद एवम शुभकामनाएं दी।कार्यक्रम में कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया था।जिसमें संगीत सुभाष गोपालगंज. कृष्ण मुरारी राय बलिया.अमरेंद्र सिंह आरा.दिवाकर उपाध्याय. राजनरायन यादव एवं विशाल शेखर राय के द्वारा अपनी रचनाओं की प्रस्तुति की गयी।श्रोताओं ने भी इनका भरपूर सहयोग किया।इस अवसर पर अवधेश नरायण राय.विद्यानन्द राय प्रधान.अश्विनी राय ग्राम प्रधान राजापुर.प्रधान पति अलीम. बृजेश राय.सुभाष राय.रविशंकर राय समीक्षा अधिकारी.विनोद राय गुड्डू.इन्दूशेखर राय प्रबन्धक उत्सव वाटिका.जितेन्द्र राय मोहन जी.दिनेश राय गुड्डू.पंकज राय प्रगतिशील किसान.नवीन पाण्डेय.दिनेश राय गुड्डू.टुनटुन राय.आशुतोष राय.यशवंत सिंह. रविन्द्र यादव.ओमप्रकाश पाण्डेय.चन्दन शर्मा.अवनीश राय. शिक्षक राजेश राय पिंटू.बृजानन्द तिवारी.कृष्ण कुमार मिश्रा. बिजय बहादुर राय.सरोज राय.मृत्युंजय राय बुल्लू.सतीश राय पिंटू .सुधांशु राय.याज्ञवल्क्य राय.अतुल राय मन्नी.सत्येन्द्र यादव. शिवांक राय.सुधांशु राय.सम्पूर्णानन्द उपाध्याय. देवेन्द्र सिंह देवा.हिमांशु राय.कृष्णानंद राय.रूद्र नरायण पाण्डेय. मृत्युंजय राय.अमरेंद्र सिंह.आलोक राय.अमित राय.श्री नरायण राय वशिष्ठगोत्री.डा० राजेन्द्र राय.मनीष राय.बाला जी राय. डाक्टर रामानंद तिवारी.सर्वेश सिंह सेंगर.अमित राय गोल्डन. शुभकरण सिंह.अजीत यादव.विवेक राय.अनूप ठाकुर.रोशन राय.अभिषेक राय.लकी ठाकुर.सुनील राय गोलू.नितेश राय समेत सैकडों की संख्या में लोग उपस्थित रहे।