संग्रामगढ़ पुलिस की एकतरफा कार्यवाही से पत्रकारों में रोष।

पत्रकारो की बैठक में पुलिस के अनैतिक व्यवहार से छुब्ध पत्रकारो ने दिया बाघराय थाने में तहरीर,

 

Anchor -पत्रकार अर्जुन गुप्ता मामले में पुलिस की एकतरफा कार्यवाही,पीड़ित पत्रकार को ही गिरफ्तार करने पहुंची संग्रामगढ़ थाने की फोर्स।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र संग्रामगढ़ मे शुक्रवार को कवरेज करने गये अर्जुन गुप्ता पत्रकार को डाक्टरों ने बुरीतरह मारा पीटा था जब पीड़ित ने थाना सग्रामगढ मे तहरीर दिया तो डाक्टर अजय गुप्ता ने उल्टा पत्रकार के बिरूद्ध मुकदमा पंजीकृत करा दिया।रविवार को बिहार बाजार मे भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ की मासिक बैठक सुनिश्चित थी जो चल रही थी, सभी पत्रकार आपसी वार्ता कर ही रहे थे कि (उसीमीटिंग मे अर्जुन गुप्ता भी) आऐ थे अर्जुन को गिरफ्तार करने पहुँची सादे कपड़े मे सग्रामगढ थाना पुलिस अर्जुन को घसीटने लगी जिस पर बैठक में उपस्थित पत्रकारों ने विरोध किया फिर भी वे सभी अर्जुन को ले जाने के लिए अड़े रहे , तभी बाघराय थाना पुलिस पहुंच गयी पत्रकार मीटिंग स्थल मे पत्रकार की बेज्जती करने पर पत्रकारों मे भारी रोष उतपन्न हो गया।

गुस्साए पत्रकारों ने सग्रामगढ थाना पुलिस के बिरोध मे नारेबाजी करते हुए बाघराय थाना का घेराव कर दोषी डाक्टर के बिरूद्ध मुकदमा पंजीकृत करने की माग कर रहे हैं। प्रतापगढ़ पुलिस के मुखिया सतपाल अंतिल इस मामले पर मूक दर्शक बने हुए हैं, योगी सरकार में पत्रकारिता जगत से जुड़े लोगों पर लगातार हो रहे अत्याचार से लोकतंत्र की आवाज़ पर खतरा बना हुआ है।

संदीप यादव पी आई न्यूज़ कुंडा