कुलदीप सिंह

महराजगंज (आजमगढ़) आस्था विश्वास के प्रतीक बाबा भैरव धाम पर प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी गंगा दशहरा मेला रविवार से प्रारंभ हो रहा है, जो एक सप्ताह तक चलेगा । लोगों की मान्यता है कि गंगा दशहरा पर धाम स्थित पवित्र सरोवर में स्नान कर बाबा का दर्शन पूजन करने से सभी कष्ट दूर होते हैं । वहीं तमाम असाध्य बीमारियों से भी मुक्ति मिलती है । इसी विश्वास के चलते यहां से दूर अन्य प्रदेशों में विस्थापित हो चुके लोग जिनकी मन्नते बाबा के आशीर्वाद से पूरी हुई हैं वह प्रतिवर्ष गंगा दशहरा पर यहां आकर श्रद्धालुओं के लिए नि:शुल्क प्याऊ, चना, शरबत व भोजन की व्यवस्था करते हैं । तथा श्रद्धालुओं की सेवा करते हैं । कोरोना संक्रमण के चलते गत वर्ष मेले पर ग्रहण लग चुका था ।ऐसे में अबकी बार मेले में दूरदराज से व्यवसाय करने के लिए आने वाले व्यवसायियों की संख्या कम ही दिख रही है । इस बार भी कई दिनों से हो रही बारिश के चलते जो व्यवसाई अपनी दुकान लगाकर तैयार किए हैं । उन्हें ग्राहकों के न पहुंचने का डर सता रहा है । मेले में मनोरंजन के लिए कई प्रकार के झूले और छोटे-मोटे सर्कस लगे हुए हैं । वहीं ग्रामीण क्षेत्र होने के कारण खेती किसानी से जुड़े छोटे कृषि यंत्रों की भी दुकानें सजी हुई है । इसके अलावा दशहरा मेले एवं बाबा के दर्शन की प्रक्रिया सीसी टीवी कैमरे की नजर में होगी जिससे कि अराजक तत्वों द्वारा की जाने वाली अवांछनीय गतिविधियों पर नियंत्रण हो सके । उसुर कुढ़वा के ग्राम प्रधान राकेश कुमार यादव ने बताया कि हर बार मेले में चेन स्नैचिंग आदि की घटनाएं सुनने को मिलती थीं, इसे ध्यान में रखते हुए मेले प्रारम्भ से पूर्व ही मंदिर एवं परिसर में सीसीटीवी कैमरे का प्रबंध कर लिया गया है ।तथा परिसर की साफ सफाई कराई जा चुकी है । तीन सफाई कर्मियों की नियमित ड्यूटी लगाई गई है । इसके अलावा व्यक्तिगत तौर पर लगभग एक दर्जन सेवादारों को श्रद्धालुओं की सुविधा एवं देख-रेख के लिए नियुक्त किया गया है ।