राजेश सिंह
आजमगढ़ । वटवृक्ष दिवस के अवसर पर बुढ़नपुर क्षेत्राधिकारी महेंद्र शुक्ला, अतरौलिया प्रभारी निरीक्षक  पंकज पांडे व रौनापार थानाध्यक्ष ने थाना परिसरों में वट वृक्ष लगाया । ऐसी मान्यता है कि सनातन हिंदू धर्म हो या बौद्ध, दोनों ही धर्मों में वट वृक्ष को पूज्य माना गया है। यह वृक्ष जीवन की निरंतराता का प्रतीक है। विशेषज्ञ बताते हैं कि यह अन्य वृक्षों की तुलना में पांच गुना अधिक प्राणवायु यानी आक्सीजन प्रदान करता है। श्रीमद्भागवत गीता में भी भगवान श्रीकृष्ण ने इसके स्वरूप का वर्णन करते हुए इसे आध्यात्मिक रूपक की तरह प्रयोग किया है। भारतीय सनातन परंपरा में सौभाग्यवती स्त्रियां वट वृक्ष का पूजन कर अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं। 10 जून को इस पर्व को मनाया जाना है। वर्तमान परिवेश में कोरोना महामारी को देखते हुए जिस तरह आक्सीजन की किल्लत लोगों ने झेली है, अब उन्हें ऐसे वृक्षों के बारे में चिंतन का मौका मिला है। ऐसे में समाज के प्रबुद्ध वर्ग ने एक बार फिर इस प्राणवायुदाता वृक्ष के पौधराेपण का संकल्प लेना चाहिए। इस मौके पर क्षेत्राधिकारी महेंद्र शुक्ला ने बताया कि थाना परिसर में हम लोगों ने मिलकर आज वृक्षारोपण किया है । जिससे भविष्य में छाया ऑक्सीजन सभी को मिलता रहे हमारे पौराणिक कथाओं के अनुसार इस वृक्षों का होना बहुत जरूरी है आज जनपद के सभी थाना परिसर में वृक्षारोपण किया जा रहा है सभी लोगों से मेरी अपील है कि वह लोग भी अवश्य लगाएं जिससे पर्यावरण शुद्ध व हरा-भरा बना रहे इस मौके पर एसआई गोपाल, हेड कांस्टेबल बृजेंद्र यादव ,कांस्टेबल अविनाश विश्वकर्मा, अमित सरोज, राजन ,विनय प्रताप सिंह, विजय आदि मौजूद रहे । इसी क्रम में रौनापार थाना परिसर में थाना प्रभारी तारकेश्वर राय ने पौधा लगाया। थाना प्रभारी ने कहा कि वट वृक्ष के लगने से थाना परिसर मे शुध्द वातावरण रहेगा। वृक्ष ही जीवन का आधार है। वट वृक्ष काफी मात्रा में आक्सीजन प्रदान करता है जिससे जनजीवन को शुद्ध ऑक्सीजन मिलता है। सभी लोगों को वृक्ष लगाना चाहिए ताकि हमारा पर्यावरण शुद्ध रहे।