राजेश सिंह
आजमगढ़ । अतरौलिया पुलिस ने फर्जी व कूट रचित अभिलेख तैयार कर नौकरी करने वाले युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया । पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह द्वारा अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु चलाये गये अभिय़ान के तहत प्रभारी निरीक्षक पंकज पाण्डेय अतरौलिया के कुशल निर्देशन में उ0नि0 जितेन्द्र कुमार सिंह मय हमराह का0 उमेश सिंह व का 0 कमलेश सिंह थाना से रवाना होकर देखभाल व क्षेत्र में वांछित/वारंटी अभियुक्त के तलाश हेतु क्षेत्र में मौजूद थे कि मुखबिर से सूचना मिली कि मुकदमें से सम्बंधित अभियुक्त  नन्दलाल उपाध्याय पुत्र श्री सत्यराम उपाध्याय निवासी ग्राम-सतहरा पो०-भैसही थाना महुली विकास खण्ड – नाथनगर तहसील धनघटा जनपद सन्तकबीरनगर जो की रोडवेज बस स्टैंन्ड अतरौलिया पर मौजूद है। इस सूचना पर अभियुक्त के गिरफ्तारी हेतु रोडवेज अतरौलिया में आकर पुलिस ने लगभग 4 बजे दबिश देते हुए अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया और विधिक कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया । बता दे कि रामजतन पुत्र शिव बरन ग्राम सतहरा जिला सन्त कबीर नगर द्वारा जिला अधिकारी आजमगढ़ को इस आशय से शिकायत की गई थी कि नंदलाल द्वारा फ़र्ज़ी व कूटरचित अभिलेख के आधार पर उ0प्र0वि0 में विज्ञान के पद पर अध्यापक के पद पर नियुक्ति प्राप्त कर ली थी । उक्त शिकायती पत्र को आधार मानकर बेसिक शिक्षा अधिकारी आजमगढ़ कार्यालय ने नंद कुमार अध्यापक से एक हफ्ते के अंदर स्पष्टीकरण मांगते हुए नोटिस जारी किया। बार-बार स्पष्टीकरण मांगने पर नंदलाल द्वारा 2011 का मूल प्रमाण पत्र अनुक्रमांक संख्या 11019 214 कार्यालय में जमा कराया जिसकी ऑनलाइन जांच की गई तो श्री राम निहाल पुत्र रामकुमार के नाम से आवंटित था। जिससे यह स्पष्ट होता है कि नंदलाल द्वारा  कूट रचित अभिलेख के सहारे नौकरी हासिल की गई । इसके बाद एफ आई आर दर्ज किया गया था तब से अभियुक्त फरार चल रहा था जिसको आज पुलिस ने गिरफ्तार कर चलान न्यायालय भेज दिया ।