कुलदीप सिंह
आजमगढ़ । जहाँ कोरोना काल में गरीबों के खाने की किल्लत को दूर करने के लिए सरकारें अंत्योदय कार्ड धारकों को राशन देकर उनकी कुछ मुस्किलें कम करने मे लगी हुई है, तो वहीँ भ्रष्ट अधिकारी व कर्मचारी गरीबों के पेट पर पाँव रखकर अपनी लालच की मीमांसा को शांत करने के लिए भ्रष्टाचार एवं

अफसरगिरी का सहारा लेकर गरीबों का हक़ मारने व सरकारों को बदनाम करने का काम कर रहे है । मामला महराजगंज ब्लाक के रघुनाथ पुर के सरकारी दुकान का है । जहाँ कार्ड धारकों से पुरे पैसे लेने के बाद भी पूरा राशन नहीं मिल रहा है । लाभार्थियों ने बताया कि राशन देने के नाम पर यहाँ बहुत दिनों से घटतौली का गोरख धंधा चल रहा है और पूछने पर कर्मचारिओं द्वारा डांट कर कह दिया जाता है कि इतना ही आता है । उनका यह भी कहना है कि एक यूनिट के पीछे 1 से 2 किलो तक राशन काम दिया जाता है । इससे ऊब कर ज़ब लाभार्थियों ने घट तौली की खबर मीडिया को दी तो मीडिया के पहुँचने की खबर से ही सरकारी दुकान बंद कर कर्मचारी भाग गए । इसपर ज़ब पत्रकारों ने सम्बंधित अधिकारी विजय साहनी (सप्लाई इंसपेक्टर ) से बात करने की बार बार कोशिस की तो उनका फ़ोन बंद आया या फिर पहुँच से बाहर बताया ।