वरूण सिंह

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की कोरोना से जेल में मौत के बाद आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलिमीन का एक प्रतिनिधिमंडल (यूपी के आज़मगढ़) ज़िला अध्यक्ष अब्दुल रहमान अंसारी उर्फ़ पप्पू महाप्रधान व ज़िला प्रवक्ता नदीम आरिफ खान के नेतृत्व में सीवान के पूर्व सांसद शाहबुद्दीन के सुपुत्र ओसामा शहाब से मिला, और उनकी मातम पुरसी में शामिल हुआ, मजलिस के आज़मगढ़ ज़िला अध्यक्ष अब्दुल रहमान उर्फ़ पप्पू महाप्रधान ने कहा कि नैतिकता के नाते हमारी जिम्मेदारी बनती है, कि हम ओसामा शहाब से मिले। और वस्तुस्थिति का जायज़ा लिया। पूर्व सांसद शाहबुद्दीन साहेब के इंतेक़ाल से हमारी हमदर्दी उनके पुत्र ओसामा शहाब के साथ है। चूंकि शाहबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब इद्दत में है, इसलिए किसी का उनसे मिलना ना मुमकिन है । ओसामा शहाब के इस ग़म में हम बराबर के शरीक हैं । आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलिमीन के प्रतिनिधिमंडल के मिलने के बाद बिहार से लेकर यूपी तक राजनीतिक हलचल तेज हो गई है, कारण के शहाबुद्दीन का शव सिवान लाने में असफल रही आरजेडी पर गंभीर आरोप लगाकर पार्टी के प्रदेश उपाध्‍यक्ष और बिहार विधान परिषद के सभापति रह चुके सलीम परवजे और पार्टी के तकनीकी प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव मो. शोहराब कुरैशी ने इस्तीफा दे दिया था, वहीं पूर्व सांसद की मौत के बाद यूपी व बिहार राज्य के कई हिस्सों में शहाबुद्दीन की मौत पर शोक सभाएं आयोजित की जा रही है, ऐसी दुख के हालात में आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलिमीन के प्रतिनिधिमंडल द्वारा सिवान में जाकर गम में शामिल होने का मुस्लिम समाज पर काफी प्रभाव देखने को मिल रहा है