क्षेत्र पंचायत की बैठक में तीन करोड़, 15 लाख का प्रस्ताव पास
पट्टी
पट्टी ब्लाक सभागार में क्षेत्र पंचायत सदस्यों की बैठक में एक करोड़ पंद्रह लाख रुपए की कार्य योजना का प्रस्ताव विभिन्न योजनाओं के लिए पास किया गया । इस दौरान ब्लाक प्रमुख पट्टी ने मौजूद क्षेत्र पंचायत सदस्यों तथा ग्राम पंचायत प्रतिनिधियों से रूबरू होते हुए विकास का खाका खींचा ।
पट्टी नगर स्थित ब्लॉक सभागार में बुधवार की दोपहर क्षेत्र पंचायत सदस्यो की बैठक का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह मोती सिंह उपस्थित रहे। कार्यक्रम में उनके उपस्थित होने पर मौजूद लोगों ने माला पहनाकर उनका अभिनंदन किया। पट्टी विकासखंड के क्षेत्र पंचायत सदस्य ,ग्राम प्रधानों तथा मौजूद जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए ब्लाक प्रमुख राकेश सिंह पप्पू सिंह ने कहा कि पट्टी विकास खंड के ग्राम पंचायतों को मजबूती देने तथा विकास कार्य के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ा जाएगा । उन्होंने धरौली माइनर के मुद्दे की बात उठाई तथा तमाम प्रकार की विभिन्न योजनाओं की भी चर्चा किया । कार्यक्रम में मौजूद सिंचाई विभाग के एसडीओ मनीष कुमार, पट्टी नगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक नीरज सिंह, ब्लाक प्रमुख सुशील सिंह, जिला पंचायत सदस्य गिरीश चंद्र जायसवाल जिला पंचायत सदस्य संजय पाल ,पट्टी के विकास खंड अधिकारी राम प्रसाद आदि लोगों ने संबोधित किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह मोती सिंह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार हमेशा गरीब मजदूर और नौजवानों के विकास का खाका खींच रही है । पंचायत को मजबूत करने की दिशा में काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पट्टी के सम्मान में खुद को कुर्बान करने में उन्हें कोई संकोच नहीं है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से आसपुर देवसरा ब्लाक प्रमुख कमलाकांत यादव , पट्टी नगर अध्यक्ष खेड़ानलाल जायसवाल, समाजसेवी अशोक जयसवाल, ग्राम प्रधान राम आसरे शुक्ला ,सुरेश शुक्ला ,परशुराम ओझा, सिराज अहमद ,डॉ एएम वर्मा पशु चिकित्सा अधिकारी ,सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे कार्यक्रम का संचालन अशोक श्रीवास्तव ने किया।

सोते हुए मिले पंचायत के प्रतिनिधि

ब्लाक सभागार में आयोजित कार्यक्रम लगभग 3 घंटे का था लेकिन 3 घंटे भी पंचायत के प्रतिनिधि संबोधन करने वाले अधिकारियों के साथ नेताओं को ढंग से सुन नहीं सके और सोते हुए नजर आए।