पट्टी में गोआश्रय स्थलों का बुरा हाल, दलदल में रहने को विवश है गाये, सफाई व्यवस्था खस्ताहाल
पट्टी।
पट्टी तहसील क्षेत्र में गोआश्रय स्थलों का हाल बहुत बुरा हो चुका है। गायों के रहने के लिए उन्हें खुले आसमान के नीचे छोड़ दिया गया है। टीन शेड की व्यवस्था न होने से गाय बरसात के रुके हुए पानी के दलदल में रहने को विवश हो गई है । हालांकि सरकार ने इसके लिए लाखों रुपए अब बजट खर्च किया है, लेकिन अव्यवस्था के कारण मवेशियों को मरने का सिलसिला बंद नहीं हो रहा है । इसके लिए जिम्मेदार लोग एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ रहे हैं ।
पट्टी तहसील क्षेत्र के मेंहदिया में बने गोआश्रय स्थल को बने हुए 5 साल बीत गए हैं । लेकिन यह व्यवस्थित नहीं हो पाया है । पूर्व प्रधान के कार्यकाल में वर्तमान प्रधान के कार्यकाल में पांच लाख खर्च किए जा चुके हैं। इस स्थल को देखने से पता चलता है कि क्षमता से अधिक गाये यहां पर है। गुरुवार को एक मवेशी मृत मिला जबकि एक गाय दलदल में फंसी थी । 5 गोवंश बीमार पड़े थे और इलाज के लिए डॉक्टर की राह देख रहे थे ।
समूचे प्रांगण में कीचड़ की भरमार दिखाई दे रही थी अंदर जाने पर दलदल में फंस जाने का डर था। इस आश्रय स्थल में गोबर डालने के लिए कंपोस्ट बनाया गया है लेकिन यह शोपीस बनकर रह गया है । इसमें वीडियो के निर्देश के बाद भी गोबर नहीं डाला गया था । इस वजह से बहता गोबर मिट्टी के साथ मिलकर दलदल में बदला हुआ दिखाई दिया। इसमें गाये रहने को विवश नजर आ रही थी। इसी कारण वह बीमार भी हो रही है, और इलाज के नाम पर डॉक्टर कोरम पूरा करने के लिए आ रहे हैं । यहां पर इलाज के नाम पर सिर्फ खानापूरी की जा रही है । इस संबंध में बीडीओ पट्टी रामप्रसाद से बात करने पर उन्होंने बताया कि धन की कोई कमी नहीं है । व्यवस्था ठीक करने को निर्देशित किया गया है फिर भी अव्यवस्था तो प्रधान व सेक्रेटरी को पत्र जारी कर के चेतावनी दी जाएगी । कीचड़ में मिट्टी डालने व ईट बिछाने को कहा था।

बिंदु वर्मा संवाददाता,पी आई न्यूज़ टीम, पट्टी प्रतापगढ़।