पट्टी के नोही गांव में हुई हत्या के मामले में पुलिस के हांथ खाली, संदिग्ध को पकड़ कर पुलिस कर रही है पूछताछ

 

पट्टी

पट्टी कोतवाली क्षेत्र के नोही गांव में शनिवार की दोपहर हुई हत्या के मामले में पुलिस अभी आरोपियों तक नहीं पहुंच सकी है, लेकिन एक संदिग्ध को पुलिस कोतवाली ले आई है और उससे पूछताछ कर रही है ।

पट्टी कोतवाली क्षेत्र के नोही गांव निवासी जयनाथ चौहान का बेटा धीरज (25) मुंबई में प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता था। लगभग 1 महीने पहले वह घर लौट आया ।

धीरज की दादी को वर्षों पहले नसबंदी के बाद एक बीघा जमीन मिली थी। लगभग 8 माह पहले दादा रामकुमार ने जमीन धीरज के भाई रोहित के नाम कर दिया था । इसे लेकर धीरज के चचेरे भाई, राजदेव व बबलू राजकुमार से नाराज थे ।

ग्रामीणों का कहना है कि शनिवार की सुबह राजदेव और बबलू राजकुमार से घर बनाने के लिए जमीन मांगने लगे जिसे लेकर विवाद होने लगा अचानक बबलू और राजदेव रामकुमार की पिटाई शुरू कर दी धीरज ने उन्हें रोकने की कोशिश किया तो राजदेव तथा बबलू ने उस पर हमला बोल दिया और चाकू से हत्या कर दिया। घटना के बाद ही धीरज की मौके पर मौत हो गई। ग्रामीणों को जुटते हुए देखकर हत्यारोपी वहां से फरार हो गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

 

रविवार को हुआ अंतिम संस्कार, मृतक के घर पुलिस का पहरा

 

पट्टी कोतवाली क्षेत्र के नोही गांव में हुई जमीनी विवाद में हत्या के बाद पट्टी कोतवाली पुलिस घर के आस-पास तैनात है । मृतक के परिजन भयभीत हैं तो वही पुलिस उन्हें सुरक्षा दे रही है पोस्टमार्टम में लाठी-डंडे तथा चाकू से वार के कारण धीरज के सिर की हड्डी टूटने की बात सामने आई । जिसके बाद उसकी मौत हो गई वही शनिवार की देर रात मृतक धीरज का शव घर पहुंचा तो परिजन बिलखने लगे। रविवार को ग्रामीणों तथा रिश्तेदारों के साथ मृतक धीरज का अंतिम संस्कार धोपाप घाट पर किया गया । वहीं पुलिस आरोपियों को पकड़ने की कोशिश में जुटी हुई है एक युवक को पकड़ कर उससे पूछताछ की जा रही है।