पर्यावरण दिवस पर तरुण चेतना ने आयोजित की जागरूकता कार्यशाला :

 

 

 

वृक्षों में देवता वास करते है, इनकी हमें पूजा करनी चाहिए – राजेंद्र कुमार मौर्य

 

 

 

पेड़ों के बिना हम सबका जीवन अधूरा है – उषा देवी

 

 

 

पर्यावरण दिवस का त्यौहार हमें रोज मानना चाहिए – प्रभागीय निदेशक

 

 

 

प्रतापगढ़! विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर तरुण चेतना व सामाजिक वानिकी वन एवं वन्य जीव प्रभाग प्रतापगढ़ के संयुक्त तत्वावधान में पर्यावरण जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता करते हुए सदर विधायक राजेंद्र कुमार मौर्य ने कहा कि वृक्षों में देवताओं का वास होता है इसकी रक्षा करना हम सबकी जिम्मेदारी है. इस अवसर पर महिला भागीदारी की प्रसंशा करते हुए सदर विधायक ने कहा कि वृक्ष हमारी धरा के आभूषण जो हमें आस-पास के दूषित तत्वों से बचा कर हमें 24 घंटे ऑक्सीज़न देते है. इनकी छाँव में रह कर मातम वुद्ध जैसे अनेक मनीषियों ने ज्ञान प्राप्त किया है. इसके निकट रहने से ज्ञान वृद्धि के साथ साथ प्राणशक्ति भी बढ़ती है।

 

इसी क्रम में मुख्य अतिथि के रूप में प्रभागीय निदेशक वरुण सिंह ने 05 जून अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस के महत्त्व पर चर्चा करते हुए कहा कि अनावश्यक जलवायु परिवर्तन के लिए हमें ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करने होंगे क्योंकि पेड़ मानव और अन्य जीवित जीवों के अस्तित्व के लिए पृथ्वी को फिट बनाते हैं । वे हमें सांस लेने के लिए हवा, खाने के लिए भोजन और रहने के लिए आश्रय प्रदान करते हैं । ये हमें जीवित रखने और हमें एक आरामदायक जीवन प्रदान करने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं जिनके लिए हम सबको सिर्फ 05 जून ही नहीं बल्कि रोज काम करना होगा. पेड़ हमसे कुछ नहीं लेते बल्कि हमें रोजाना आक्सीजन देने के साथ साथ स्वच्छ और हरित वातावरण बनाकर हमारे जीवन की रक्षा करते है. इस अवसर पर संघर्षशील महिला यफपीसी० की निदेशक उषा देवी ने कहा कि पेड़ों के बिना हम सबका जीवन अधूरा है, इन्हें हमें बच्चों की तरह सेवा करना चाहिए. इससे हम तेजी से होते जलवायु परिवर्तन को रोक सकते है. कार्यक्रम का संचालन तरुण चेतना के निदेशक नसीम अंसारी ने कहा कि आधे से ज्यादा पेड़ लगाने के बाद नष्ट हो जाते है, इसलिए पेड़ लगाने से ज्यादा पेड़ बचाने का प्रयास किया जाना चाहिए.

 

यूरोपियन यूनियन, बार्न फोंडेन और चाईल्डफण्ड के सहयोग से आयोजित पर्यावरण जागरूकता समारोह के अंत में पर्यावरण संरक्षण के लिये जागरूकता रैली निकाली गयी, जिसमें रैली में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हुई. उन्होंने पेड़ लगाओ-जीवन बचाओ, सांसे हो रही है कम- आओ वृक्ष लगाये हम, जल ही जीवन हैं – इसकी रक्षा करे के नारे लगते हुए पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया। इस अवसर पर कार्यक्रम में आए सभी अतिथियों का आभार मो० समीम अंसारी ने किया.

 

कार्यक्रम में मुख्य रूप से फारेस्टर आशीष सिंह, लल्लन कुमार सहित चाइल्डलाइन समन्वयक अर्पित श्रीवास्तव, मेहताब खान, शकुंतला ,रीना, बदरून निशा, अभय यादव , सहीद अहमद, राकेश गिरी व शकुंतला देवी आदि लोगों ने अपने विचार रखे ।