पत्रकार पिस्तौल नहीं कलम की मार रखते है,

इरादो में दम और सोच में गोली की रफ़्तार रखते है,

 

अरे मिट गए पत्रकार को मिटाने वाले क्योकि पत्रकार अपनी जवानी को आग में तपाने का जिगर रखते है,

पत्रकार आवाज नहीं बल्कि शेर की दहाड़ रखते है,

 

पत्रकार अगर मिलकर एक साथ खड़े हो जाए तो पहाड़ लगते है,

पत्रकार वो सुनहरे पन्ने है जिन को इतिहास भी अपने अंदर समाने की कोशिश करता है

हिंदी पत्रकारिता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए

 

बरमेशवर राय (निष्पक्ष)

पत्रकार