सलेमपुर भाजपा के मण्डल अध्यक्ष कन्हैया लाल जायसवाल ने ज्ञानवापी पर सपा अध्यक्ष के विवादित बयान पर विरोध जताया है।

उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पिछले दिनों अयोध्या में मीडिया से बात करते हुए मंदिर को लेकर बयान दिया,जो निंदनीय है अखिलेश यादव ने कहा था ”हमारे हिंदू धर्म में एक पीपल के पेड़ के नीचे एक पत्थर रख दो, झंडा रख दो, मंदिर बन जाता है।”

उन्होंने बीजेपी नहीं अपितु बहुसंख्यक समाज का अपमान किया है, भगवान भोलेनाथ का अपमान किया है. उन्होंने हमारे द्वादश ज्योतिर्लिंगों में प्रधान विश्वनाथ हैं और काशी विश्वनाथ में जब मुग़ल आक्रांता औरंगजेब ने भगवान भोलेनाथ के मंदिर को तोड़कर उस मिट्टी के मलबे से ज्ञानवापी मस्जिद बनाया था।कोर्ट के आदेश से वीडियोग्राफी के दौरान वहां शिवलिंग की प्राप्ति हुई है। बावजूद इसके सपा प्रमुख अपनी राजनीति चमकाने के लिए ऐसा बयान दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि अखिलेश का ये बयान उनकी पार्टी के समूल नाश का कारण होगा।

उन्होंने कहा कि चुनाव के समय में तो अखिलेश यादव के सपने में कृष्ण भगवान आया करते थे लेकिन उन्हें यह नहीं बताया था कि वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बहुत बुरी तरीके से हारने वाले हैं। उन्होंने आगे कहा कि हमारे यहां गीत और गानों में भी देवी देवताओं को पूजा जाता है। हम तो पत्थरों की भी पूजा करते हैं।

उन्होंने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को ऐसे ही गैरजिम्मेदाराना बयान देने के कारण टीपू कहा जाता है।