पंडित मुनीश्वर दत्त उपाध्याय का शैक्षिक योगदान प्राचार्य

 

पट्टी, प्रतापगढ़। पंडित मुनीश्वर दत्त उपाध्याय महान कर्मयोगी थे वे जो भी संकल्प लेते थे उसे पूरा करके ही संतुष्ट होते थे उनके शरीर और मन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव अत्यंत समृद्ध था प्रतापगढ़ जनपद उनके साहित्यिक योगदान के लिए सदैव ऋणी रहेगा उक्त बातें स्नातकोत्तर महाविद्यालय पट्टी के प्राचार्य डॉ राम भजन अग्रहरि ने पंडित जी की जयंती के अवसर पर महाविद्यालय परिवार को संबोधित करते हुए कही पंडित जी के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए महाविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ मिथिलेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि पंडित मुनीश्वर दत्त उपाध्याय जी अतीन्द्रिय प्रतिभा के धनी महामानव थे यह बहुत कुछ को कदर देने का संकल्प और साहस लेकर धरती पर आए थे और अंतिम सांस तक मानवता की सेवा करते रहे प्रतापगढ़ जनपद में उन्होंने शिक्षा की ज्योति प्रज्वलित की वह आज भी अज्ञान तिमिर का नाश कर रही है अर्थशास्त्र विभागाध्यक्ष डॉ कृष्ण प्रताप सिंह ने कहा कि पंडित जी एक श्रेष्ठ शिक्षाविद होने के साथ-साथ कुशल राजनेता भी थे। उन्होंने तत्कालीन राजनीतिक को ना केवल भटकने से बचाया बल्कि उसे सही दिशा एवं दशा भी प्रदान की सुल्तानपुर जनपद से पधारे पंडित राजेश त्रिपाठी ने वीर छंद के माध्यम से आल्हा गायन शैली में पंडित जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला उक्त अवसर पर डॉ दिलीप सिंह डॉ राकेश पांडे डॉ वीरेंद्र मिश्र डॉक्टर सुनील विश्वकर्मा डॉक्टर विकास सिंह श्रीमती साधना मिश्र डॉ प्रदीप त्रिपाठी डॉ मृत्युंजय यादव के साथ-साथ महाविद्यालय के बहुत से छात्र छात्राओं ने भी पंडित जी के चित्र पर माल्यार्पण करके श्रद्धांजलि अर्पित की कार्यक्रम की समाप्ति के पश्चात प्राचार्य एवं प्रधानाध्यापकों ने विज्ञान संकाय के प्रांगण में छायादार वृक्षों के पौधों का रोपण किया। इसी तरह राम राज इंटर कॉलेज में पंडित मुनेश्वर दत्त की प्रतिमा पर मेजर विद्याधर त्रिपाठी प्रधानाचार्य एवं विद्यालय के अध्यापक राजेश दुबे सतीश पांडे आज अध्यापकों में प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।