चाइल्डलाइन व अग्रवाल सम्मेलन ने बच्चों के साथ मिलकर मनाया विश्व पर्यावरण दिवस

 

भरपूर ऑक्सीजन देकर पर्यावरण को शुद्ध रखते हैं ये पेड़ – सुनील गोयल

पेड़ लगाने से ज्यादा इनका संरक्षण जरूरी – अशोक अग्रवाल

 

प्रतापगढ़! विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर पूरेईश्वर नाथ में चाइल्डलाइन-1098 और अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के संयुक्त तत्वाधान में नन्हें मुन्ने बच्चों के साथ सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए बाल-सम्मेलन का आयोजन किया गया. इस अवसर मुख्य अतिथि के रूप में अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रदेश उपाध्यक्ष सुनील गोयल ने कहा वृक्षारोपण से जहाँ हमारा पर्यावरण शुद्ध रहता है वहीँ पेड़ों से हमें भरपूर आक्सीजन भी मिलता है. श्री अग्रवाल ने कोरोना से बचाव के लिए सामाजिक दूरी बनाने व मास्क लगाने पर जोर देते हुए अधिकाधिक वृक्षारोपण करने की अपील की. इस अवसर पर उपस्थित अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन की सलाहकार समिति के प्रदेश सचिव अशोक अग्रवाल ने कहा कि ज्यादातर पेड़ लगाने के बाद नष्ट हो जाते हैं इसलिए पेड़ लगाने के साथ साथ इनके संरक्षण पर जोर दिया जाना चाहिए.

बाल सम्मलेन का के मुख्य आयोजक व चाइल्ड लाइन केंद्र समन्वयक शुभा पांडेय ने कहा कि पर्यावरण व जीवन के बीच अटूट रिश्ता है, इस संबंध को हमेशा बेहतर बनाये रखने के लिए लोगों को आगे आकर पर्यावरण को शुद्ध रखना होगा तभी मानव जीवन सुरक्षित रहेगा। इस अवसर पर चाइल्डलाइन टीम मेंबर बीनम विश्वकर्मा ने कहा कि हम लोगों को कोविड- 19 महामारी में ऑक्सीजन की बहुत दिक्कत हो गई थी, जिसके कारण बहुत से लोगों को अपनी जान से हाँथ धोना पड़ा और बच्चे अनाथ हो गए. उन्होंने कहा कि हम सभी की जिम्मेदारी है कि पर्यावरण को सुरक्षित रखें और बच्चों के जन्म पर उसके नाम का एक वृक्ष अवश्य लगाएं. इससे हमारा पर्यावरण सुरक्षित रहेगा और आने वाली पीढ़ी इससे प्रेरणा भी लेगी.

इस बाल सम्मेलन के दौरान आयोजित चित्रकला प्रतियोगता में बच्चों ने चार्ट पर स्वच्छ पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण का महत्त्व विषय पर खूबसूरत चित्र भी बनाये, जिसे उपस्थित लोगों द्वारा खूब सराहा गया. इस अवसर पर अतिथियों, बच्चों व चाइल्डलाइन टीम द्वारा पर्यावरण संरक्षण की शपथ लेकर वृक्षारोपण भी किया गया.

कार्यक्रम में चाइल्डलाइन टीम मेंबर अभय यादव व् अग्रवाल सम्मेलन के जिला महामंत्री नितिन अग्रवाल ने भी पर्यावरण संरक्षण व बच्चों की भूमिका विषय पर अपने विचार व्यक्त किये. पट्टी में भी तरुण चेतना संस्था द्वारा सरसतपुर, चरैया, बहुता व वेलारामपुर में महिला किसानों के साथ एक सप्ताह तक चलने वाले पर्यावरण जागरूकता अभियान की शुरुआत की गयी।