दस दिनों के बाद भी हत्या का आरोपी फरार, पीड़ित परिजन परेशान, आरोप

 

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल के बड़के जिले प्रतापगढ़ में बड़ी बड़ी घटनाएं होती थी फायरिंग, हत्या, गैंगवार, लूट जैसी घटनानाएं आए दिन होती रहती थी।ये घटनाएं रोज की आम बात हो गई थी। पूरा जिला अपराध से त्राहीमाम त्राहिमाम कर रहा था।जिले के लोगों के मन में डर अपनी मजबूत जगह बना चुका था।लोग कहते थे कि कब क्या हो जाए भगवान जाने।अपराध से त्राहीमाम त्राहिमाम कर रहे जिले की कमान तेज तर्रार एसपी आकाश तोमर को मिली।आकाश तोमर ने जिले की कमान संभालते ही कई ताबड़तोड़ प्रभावी कार्यवाही करनी शुरू की और इस प्रभावी कार्यवाही से जिले के अपराधी त्राहिमाम त्राहिमाम करने लगे है तो वही कुंडा पुलिस लापरवाही में मस्त हैं और अपराधी मौज कर रहे हैं।

आपको बताते चले कि थाना कुंडा क्षेत्र के पीरानगर निवासी सचिन मिश्रा उर्फ अंशु की 24 मई देर रात ग्राम बरईपुर नवाबगंज बारात में डीजे पर डांस को लेकर कहा सुनी हुई थी बारात से सचिन मिश्रा अपने साथियों के साथ मोटरसाइकिल से वापस घर आ रहा था।रास्ते में पलई चौराहा के पास बिना नंबर की एक्सयूवी गाड़ी से आकाश सिंह ने अपने साथियों के साथ आकर सचिन मिश्रा ( अंशु ) की गोली मारकर नृशंस हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद परिवार वालों ने पूर्व प्रधान पुत्र पर हत्या करने का आरोप लगाते हुए नामज़द तहरीर दी थी। लेकिन आज 10 दिन बीत जाने के बाद भी मुख्य आरोपी कुंडा पुलिस की गिरफ़्त से दूर है।हत्यारों की गिरफ्तारी न होने से अंशु हत्याकांड पर राजनीतिक सियासत गर्म हो कर धधक रही है। स्थानीय नेताओं से लेकर विभिन्न संगठनो ने अंशु के न्याय की गुहार लगा रहे है। लोगों में लगातार कुंडा पुलिस को लेकर आक्रोश पनप रहा है। परिवार ने आत्म दाह करने की दी चेतावनी ।पीड़ित परिवार न्याय न मिलने पर सामूहिक आत्मदाह की चेतावनी दे रहा हैं। परिवार का आरोप है कि प्रसाशन की मिली भगत से अंशु के हत्यारोपियों को बचाया जा रहा है। ब्राह्मण समाज के लोग लगातार अपना आक्रोश जता रहे है और कैंडल मार्च निकालते हुए न्याय की गुहार लगा रहे है।