*सादर प्रणाम, सुप्रभात*

लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ की मजबूत नींव,आम आदमी के भरोसा विश्वास पर सदैव खरी,शासन, प्रशासन,न्याय व्यवस्था की दिशा दर्शक,सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक दुर्दशा के दंश से थके,हारे लोगों की संजीवनी,समाज के सृजनात्मक शक्तियों को सदैव आदर सत्कार प्रदान करने वाली *हिन्दी पत्रकारिता* दिवस अवसर पर आज आप परम श्रद्धेय आदरणीय को हृदय के अनन्य, अनन्त गहराइयों से बधाई।शुभकामना आप सदैव सामाजिक सेवा के प्रति अपनी निपट,निरापद लेखनी से हिन्दी पत्रकारिता के सम्मान को शिर्ष शिखर पर स्थापित रखने मे सदैव समर्थ सक्षम हो।

बरमेशवर राय गाजीपुर, उप्र*सादर प्रणाम, सुप्रभात*
लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ की मजबूत नींव,आम आदमी के भरोसा विश्वास पर सदैव खरी,शासन, प्रशासन,न्याय व्यवस्था की दिशा दर्शक,सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक दुर्दशा के दंश से थके,हारे लोगों की संजीवनी,समाज के सृजनात्मक शक्तियों को सदैव आदर सत्कार प्रदान करने वाली *हिन्दी पत्रकारिता* दिवस अवसर पर आज आप परम श्रद्धेय आदरणीय को हृदय के अनन्य, अनन्त गहराइयों से बधाई।शुभकामना आप सदैव सामाजिक सेवा के प्रति अपनी निपट,निरापद लेखनी से हिन्दी पत्रकारिता के सम्मान को शिर्ष शिखर पर स्थापित रखने मे सदैव समर्थ सक्षम हो।
बरमेशवर राय गाजीपुर, उप्र