निधन पर जताई गई संवेदना

लालगंज प्रतापगढ़। मानस सम्मेलन समिति के कोषाध्यक्ष तथा प्रधान के पिता राजबहादुर सिंह के आकस्मिक निधन पर लोगों ने संवेदना प्रकट की है। लालूपुर गांव के प्रधान बृजेश कुमार सिंह के पिता राजबहादुर सिंह मानस सम्मेलन समिति के कोषाध्यक्ष थे। इधर उनका आकस्मिक निधन हो गया। शनिवार को सोशल डिस्टेसिंग के बीच हुई शोकसभा में मानसमराल पं. रामफेर पाण्डेय, विशालमूर्ति मिश्र, आचार्य रामअवधेश मिश्र, डा. शक्तिधर नाथ पाण्डेय, डा. रमाशंकर शुक्ल, बज्रघोष ओझा, ज्ञानप्रकाश शुक्ल, प्रीतेंद्र ओझा, राजू ओझा, राजकृष्ण ओझा, लाल पाण्डेय, बबलू पाण्डेय, कालीप्रसाद आदि ने स्व. राजबहादुर के निधन को आध्यात्म क्षेत्र की बड़ी क्षति ठहराया है।

 

 

वैक्सीनेशन अभियान पर तहसील स्तरीय रूपरेखा पर हुआ मंथन, बनी कार्ययोजना

फोटो-01 तहसील सभागार में वैक्सीनेशन पर विचारविमर्श करते एसडीएम

लालगंज प्रतापगढ़। कोविड-19 से बचाव के लिए तहसील क्षेत्र में वैक्सीनेशन अभियान को प्रभावी बनाने के लिए शनिवार को तहसील सभागार में प्रशासनिक मंथन हुआ। एसडीएम राहुल यादव की अध्यक्षता मे हुई बैठक मे वैक्सीनेशन के लिए गांव-गांव जागरूकता अभियान को तेज किये जाने का निर्णय लिया गया। एसडीएम ने अफसरो से कहा कि विभागीय समन्वय के साथ टीकाकरण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को संतृप्त किये जाने मे तत्परता से जुटें। वहीं उन्होनें अभियान को लेकर कहीं भी आवश्यकता पड़ने पर शांति व्यवस्था के लिए थानाध्यक्षों को भी सहयोग मे तत्पर रहने को कहा। खण्ड विकास अधिकारियों ने बैठक मे गांवो मे सेनेटराइजेशन अभियान की प्रगति की जानकारियां उपलब्ध कराई। बैठक मे मौजूद सीओ जगमोहन ने अभियान में पुलिस विभाग के द्वारा प्रबन्धों मे पूर्ण सहभागिता का भरोसा दिलाया गया। बैठक मे ईओ सुभाषचंद्र सिंह ने नगर पंचायत में सार्वजनिक संस्थानो तथा वार्डो में सेनेटराइजेशन तथा स्वच्छता को लेकर कार्यदायी संस्था के कार्यो का ब्यौरा पेश किया। लालगंज अधीक्षक डा. अरविंद गुप्ता, बीडीओ मुनव्वर खां, सीडीपीओ अनुपम मिश्रा, आरके रामलोचन त्रिपाठी समेत लालगंज तथा सांगीपुर व रामपुर संग्रामगढ़ एवं लक्ष्मणपुर के स्वास्थ्य एवं बाल विकास, पुलिस तथा राजस्व से जुडे अफसर मौजूद रहे।

 

 

नोट- कृपया इस समाचार को प्रमोद तिवारी की फोटो सहित लिये जाने का अनुरोध है।

अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश सामयिक- प्रमोद तिवारी

सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद ने प्रदेश में अनाधिकृत शराब के गठजोड़ तथा पश्चिम बंगाल के सियासी घटनाचक्र एवं कोरोना आंकडो को लेकर किये प्रहार

फोटो-03 पीपी, प्रमोद तिवारी।

लालगंज प्रतापगढ़। केन्द्रीय कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य प्रमोद तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट के द्वारा ताजा कोरोना महामारी के चलते अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी को लेकर सरकार को दिये गये निर्देश को सामयिक करार दिया है। श्री तिवारी ने कहा कि महामारी के चलते कई जगह दुर्भाग्य से एक ही परिवार के चार से पांच सदस्यो को भी जान गंवानी पडी। उन्होने कहा कि सबसे पीड़ादायक यह है कि महामारी ने कई मासूम बच्चों के सिर से मां-बाप का साया छीनकर उन्हें अनाथ कर दिया है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद ने कहा कि ऐसे समय मे जब सरकार ने अनाथ बच्चों को भूख से तड़पते देख बेसहारा स्थिति मे भी इनके प्रबन्धों की सुध न ली तो सुप्रीम कोर्ट को निर्देशात्मक हस्तक्षेप करना पड़ा। श्री तिवारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा अनाथ हुए बच्चों की पूरी जिम्मेदारी निभाने के लिए राज्यो व केंद्र सरकार को दिया गया निर्देश इन सरकारों के मुंह पर तमाचा है। प्रमोद तिवारी ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का सरकार से यह पूछना कि इतनी भयानक महामारी मे देश मे कितने बच्चे अनाथ हो गये, इसके बावजूद सरकारें अभी तक मासूमो के लिए उनकी बुनियादी जरूरतो और सुरक्षा के लिए कोई कारगर कार्ययोजना नही बना सकी यह दुर्भाग्यपूर्ण है। वहीं सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने प्रदेश मे महामारी के दौर मे भी अनाधिकृत शराब से लगातार हो रही मौतों को सरकार के नियंत्रण के लिए चुनौतीपूर्ण भी करार दिया है। मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से शनिवार को यहां जारी बयान मे प्रमोद तिवारी ने कहा कि इस समय प्रदेश में आबकारी विभाग तथा अनाधिकृत शराब के निर्माताओ का खुला गठजोड़ चल रहा है। उन्होने प्रतापगढ़ तथा प्रयागराज, फूलपुर, उन्नाव व बाराबंकी में जहरीली शराब से हुई मौतो पर भी आबकारी विभाग एवं शराब माफियाओं के गठजोड़ पर सरकारी निरंकुशता के आरोप लगाये है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने पश्चिम बंगाल में महामारी तथा भयानक तूफान के बावजूद राज्य की मुख्यमंत्री तथा प्रधानमंत्री के बीच असंसदीय भाषा मे छिडी लडाई को भी दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। श्री तिवारी ने कहा कि इस समय प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को तूफान तथा महामारी से लडने के लिए एकराय होना चाहिए न कि अपनी इस जुबानी लड़ाई मे पीएम मोदी और सीएम ममता राज्य की जनता या प्रशासन को बलि का बकरा बनायें। कोरोना महामारी पर नियंत्रण के सरकार के दावे पर भी सवालिया अंदाज मे प्रमोद तिवारी ने कहा है कि आंकडे कोविड मरीजो और मृतकों के रोज हुबहू वही आ रहे है। इसके बावजूद कि ग्रामीण अंचलो मे टेस्टिंग न के बराबर है और अस्पतालो मे इलाज के उपकरण और ऑक्सीजन तथा जरूरी दवाओं को लेकर हाय तौबा मची है। ऐसे मे प्रमोद ने केंद्र और राज्य सरकार से आंकडो मे कमी की तुरूपबाजी की जगह महामारी को नियंत्रित करने के लिए वास्तविक और जरूरी तथा व्यवहारिक प्रबन्ध सुनिश्चित करने चाहिये।

निधन पर जताई गई संवेदना
लालगंज प्रतापगढ़। मानस सम्मेलन समिति के कोषाध्यक्ष तथा प्रधान के पिता राजबहादुर सिंह के आकस्मिक निधन पर लोगों ने संवेदना प्रकट की है। लालूपुर गांव के प्रधान बृजेश कुमार सिंह के पिता राजबहादुर सिंह मानस सम्मेलन समिति के कोषाध्यक्ष थे। इधर उनका आकस्मिक निधन हो गया। शनिवार को सोशल डिस्टेसिंग के बीच हुई शोकसभा में मानसमराल पं. रामफेर पाण्डेय, विशालमूर्ति मिश्र, आचार्य रामअवधेश मिश्र, डा. शक्तिधर नाथ पाण्डेय, डा. रमाशंकर शुक्ल, बज्रघोष ओझा, ज्ञानप्रकाश शुक्ल, प्रीतेंद्र ओझा, राजू ओझा, राजकृष्ण ओझा, लाल पाण्डेय, बबलू पाण्डेय, कालीप्रसाद आदि ने स्व. राजबहादुर के निधन को आध्यात्म क्षेत्र की बड़ी क्षति ठहराया है।

वैक्सीनेशन अभियान पर तहसील स्तरीय रूपरेखा पर हुआ मंथन, बनी कार्ययोजना
फोटो-01 तहसील सभागार में वैक्सीनेशन पर विचारविमर्श करते एसडीएम
लालगंज प्रतापगढ़। कोविड-19 से बचाव के लिए तहसील क्षेत्र में वैक्सीनेशन अभियान को प्रभावी बनाने के लिए शनिवार को तहसील सभागार में प्रशासनिक मंथन हुआ। एसडीएम राहुल यादव की अध्यक्षता मे हुई बैठक मे वैक्सीनेशन के लिए गांव-गांव जागरूकता अभियान को तेज किये जाने का निर्णय लिया गया। एसडीएम ने अफसरो से कहा कि विभागीय समन्वय के साथ टीकाकरण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को संतृप्त किये जाने मे तत्परता से जुटें। वहीं उन्होनें अभियान को लेकर कहीं भी आवश्यकता पड़ने पर शांति व्यवस्था के लिए थानाध्यक्षों को भी सहयोग मे तत्पर रहने को कहा। खण्ड विकास अधिकारियों ने बैठक मे गांवो मे सेनेटराइजेशन अभियान की प्रगति की जानकारियां उपलब्ध कराई। बैठक मे मौजूद सीओ जगमोहन ने अभियान में पुलिस विभाग के द्वारा प्रबन्धों मे पूर्ण सहभागिता का भरोसा दिलाया गया। बैठक मे ईओ सुभाषचंद्र सिंह ने नगर पंचायत में सार्वजनिक संस्थानो तथा वार्डो में सेनेटराइजेशन तथा स्वच्छता को लेकर कार्यदायी संस्था के कार्यो का ब्यौरा पेश किया। लालगंज अधीक्षक डा. अरविंद गुप्ता, बीडीओ मुनव्वर खां, सीडीपीओ अनुपम मिश्रा, आरके रामलोचन त्रिपाठी समेत लालगंज तथा सांगीपुर व रामपुर संग्रामगढ़ एवं लक्ष्मणपुर के स्वास्थ्य एवं बाल विकास, पुलिस तथा राजस्व से जुडे अफसर मौजूद रहे।

नोट- कृपया इस समाचार को प्रमोद तिवारी की फोटो सहित लिये जाने का अनुरोध है।
अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश सामयिक- प्रमोद तिवारी
सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद ने प्रदेश में अनाधिकृत शराब के गठजोड़ तथा पश्चिम बंगाल के सियासी घटनाचक्र एवं कोरोना आंकडो को लेकर किये प्रहार
फोटो-03 पीपी, प्रमोद तिवारी।
लालगंज प्रतापगढ़। केन्द्रीय कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य प्रमोद तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट के द्वारा ताजा कोरोना महामारी के चलते अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी को लेकर सरकार को दिये गये निर्देश को सामयिक करार दिया है। श्री तिवारी ने कहा कि महामारी के चलते कई जगह दुर्भाग्य से एक ही परिवार के चार से पांच सदस्यो को भी जान गंवानी पडी। उन्होने कहा कि सबसे पीड़ादायक यह है कि महामारी ने कई मासूम बच्चों के सिर से मां-बाप का साया छीनकर उन्हें अनाथ कर दिया है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद ने कहा कि ऐसे समय मे जब सरकार ने अनाथ बच्चों को भूख से तड़पते देख बेसहारा स्थिति मे भी इनके प्रबन्धों की सुध न ली तो सुप्रीम कोर्ट को निर्देशात्मक हस्तक्षेप करना पड़ा। श्री तिवारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा अनाथ हुए बच्चों की पूरी जिम्मेदारी निभाने के लिए राज्यो व केंद्र सरकार को दिया गया निर्देश इन सरकारों के मुंह पर तमाचा है। प्रमोद तिवारी ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय का सरकार से यह पूछना कि इतनी भयानक महामारी मे देश मे कितने बच्चे अनाथ हो गये, इसके बावजूद सरकारें अभी तक मासूमो के लिए उनकी बुनियादी जरूरतो और सुरक्षा के लिए कोई कारगर कार्ययोजना नही बना सकी यह दुर्भाग्यपूर्ण है। वहीं सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने प्रदेश मे महामारी के दौर मे भी अनाधिकृत शराब से लगातार हो रही मौतों को सरकार के नियंत्रण के लिए चुनौतीपूर्ण भी करार दिया है। मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से शनिवार को यहां जारी बयान मे प्रमोद तिवारी ने कहा कि इस समय प्रदेश में आबकारी विभाग तथा अनाधिकृत शराब के निर्माताओ का खुला गठजोड़ चल रहा है। उन्होने प्रतापगढ़ तथा प्रयागराज, फूलपुर, उन्नाव व बाराबंकी में जहरीली शराब से हुई मौतो पर भी आबकारी विभाग एवं शराब माफियाओं के गठजोड़ पर सरकारी निरंकुशता के आरोप लगाये है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने पश्चिम बंगाल में महामारी तथा भयानक तूफान के बावजूद राज्य की मुख्यमंत्री तथा प्रधानमंत्री के बीच असंसदीय भाषा मे छिडी लडाई को भी दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। श्री तिवारी ने कहा कि इस समय प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को तूफान तथा महामारी से लडने के लिए एकराय होना चाहिए न कि अपनी इस जुबानी लड़ाई मे पीएम मोदी और सीएम ममता राज्य की जनता या प्रशासन को बलि का बकरा बनायें। कोरोना महामारी पर नियंत्रण के सरकार के दावे पर भी सवालिया अंदाज मे प्रमोद तिवारी ने कहा है कि आंकडे कोविड मरीजो और मृतकों के रोज हुबहू वही आ रहे है। इसके बावजूद कि ग्रामीण अंचलो मे टेस्टिंग न के बराबर है और अस्पतालो मे इलाज के उपकरण और ऑक्सीजन तथा जरूरी दवाओं को लेकर हाय तौबा मची है। ऐसे मे प्रमोद ने केंद्र और राज्य सरकार से आंकडो मे कमी की तुरूपबाजी की जगह महामारी को नियंत्रित करने के लिए वास्तविक और जरूरी तथा व्यवहारिक प्रबन्ध सुनिश्चित करने चाहिये।