मांगलिक कार्यक्रम में हर्ष फायरिंग, जांच मे जुटी पुलिस

लालगंज प्रतापगढ़। मांगलिक कार्यक्रम में गुटो के आपसी होड़ मे हुई हर्ष फायरिंग से अफरातफरी का माहौल बन गया। वहीं फायरिंग की स्पर्धा को देख कार्यक्रम मे मौजूद काफी संख्या मे लोग जान बचाने की नीयत से आननफानन में कार्यक्रम स्थल से घर को निकल गये। सूत्रों के मुताबिक कोतवाली के पूरे अनिरूद्ध गोविंदपुर गांव में बुधवार की शाम लालजी शुक्ल के यहां तिलक का कार्यक्रम था। इसी बीच बगल के गांव से कुछ लोग आये। एक गुट के लोगों ने हर्ष फायरिंग शुरू की तो वहां पहले से मौजूद दूसरे गुट से भी हर्ष फायरिंग होने लगी। ताबडतोड हर्ष फायरिंग देख कार्यक्रम मे अफरातफरी मच गयी। हालांकि कार्यक्रम मे मौजूद वरिष्ठ लोगों के समझाने बुझाने पर हर्ष फायरिंग पर अंकुश लग सका। दबीजुबान से ग्रामीणों का कहना है कि कार्यक्रम में पिस्टल से भी हर्ष फायरिंग की गई। इधर हर्ष फायरिंग को लेकर कार्यक्रम के आयोजक मुंह खोलने को तैयार नहीं है। पुलिस का कहना है उसे इस प्रकार की हर्ष फायरिंग की कोई सूचना नही है। न तो पुलिस को किसी ने कोई शिकायती प्रार्थना पत्र ही दिया है। फिर भी यदि महामारी के दौर में हर्ष फायरिंग हुई है तो मामले की जांच कर कडी कार्रवाई की जाएगी।मांगलिक कार्यक्रम में हर्ष फायरिंग, जांच मे जुटी पुलिस
लालगंज प्रतापगढ़। मांगलिक कार्यक्रम में गुटो के आपसी होड़ मे हुई हर्ष फायरिंग से अफरातफरी का माहौल बन गया। वहीं फायरिंग की स्पर्धा को देख कार्यक्रम मे मौजूद काफी संख्या मे लोग जान बचाने की नीयत से आननफानन में कार्यक्रम स्थल से घर को निकल गये। सूत्रों के मुताबिक कोतवाली के पूरे अनिरूद्ध गोविंदपुर गांव में बुधवार की शाम लालजी शुक्ल के यहां तिलक का कार्यक्रम था। इसी बीच बगल के गांव से कुछ लोग आये। एक गुट के लोगों ने हर्ष फायरिंग शुरू की तो वहां पहले से मौजूद दूसरे गुट से भी हर्ष फायरिंग होने लगी। ताबडतोड हर्ष फायरिंग देख कार्यक्रम मे अफरातफरी मच गयी। हालांकि कार्यक्रम मे मौजूद वरिष्ठ लोगों के समझाने बुझाने पर हर्ष फायरिंग पर अंकुश लग सका। दबीजुबान से ग्रामीणों का कहना है कि कार्यक्रम में पिस्टल से भी हर्ष फायरिंग की गई। इधर हर्ष फायरिंग को लेकर कार्यक्रम के आयोजक मुंह खोलने को तैयार नहीं है। पुलिस का कहना है उसे इस प्रकार की हर्ष फायरिंग की कोई सूचना नही है। न तो पुलिस को किसी ने कोई शिकायती प्रार्थना पत्र ही दिया है। फिर भी यदि महामारी के दौर में हर्ष फायरिंग हुई है तो मामले की जांच कर कडी कार्रवाई की जाएगी।