काली पट्टी बांधकर संविदाकर्मियों ने जताया विरोध*

 

पट्टी प्रतापगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टी में उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के कर्मचारियों ने ड्यूटी के दौरान काम करते हुए काली पट्टी बांधकर मंगलवार को अपनी मांगों के पूरा ना होने पर विरोध जताया संविदा कर्मी कर्मचारियों का कहना है कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो आगे रणनीति तय करके विरोध जारी रखेंगे।  कर्मचारियों ने तय किया कि 2 जून 2021 को सभी संविदा साथी जहां भी ड्यूटी रहेगी वहीं पर अपने कोविड-19 शहीद हुए साथियों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और जूम मीटिंग के जरिए आगे रणनीति तैयार करेंगे संविदा कर्मी का कहना है कि बीते 6 मई को महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण तथा चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा उत्तर प्रदेश को एक ज्ञापन दिया गया था जिसमें कर्मचारियों को समायोजन की प्रक्रिया की मांग की गई थी तथा 2019 से राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी हेतु बंद स्थानांतरण नीति को पुनः लागू किए जाने की मांग सहित अन्य मांगे रखी गई थी लेकिन उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया अगर इसी तरह से उनकी मांगों को खारिज करते हुए उन्हें नजरअंदाज किया गया तो वह सभी कर्मचारी आंदोलन करने पर विवश होंगे। इस अवसर पर मो सरवर शिवपूजन दूबे सर्वेश मौर्य, इम्तियाज अली, नितिन, नेहा, सुमनलता, मेघा, सुजाता, सहित सभी संविदाकर्मी मौजूद रहे।

काली पट्टी बांधकर संविदाकर्मियों ने जताया विरोध*

पट्टी प्रतापगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पट्टी में उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के कर्मचारियों ने ड्यूटी के दौरान काम करते हुए काली पट्टी बांधकर मंगलवार को अपनी मांगों के पूरा ना होने पर विरोध जताया संविदा कर्मी कर्मचारियों का कहना है कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो आगे रणनीति तय करके विरोध जारी रखेंगे। कर्मचारियों ने तय किया कि 2 जून 2021 को सभी संविदा साथी जहां भी ड्यूटी रहेगी वहीं पर अपने कोविड-19 शहीद हुए साथियों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और जूम मीटिंग के जरिए आगे रणनीति तैयार करेंगे संविदा कर्मी का कहना है कि बीते 6 मई को महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण तथा चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा उत्तर प्रदेश को एक ज्ञापन दिया गया था जिसमें कर्मचारियों को समायोजन की प्रक्रिया की मांग की गई थी तथा 2019 से राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी हेतु बंद स्थानांतरण नीति को पुनः लागू किए जाने की मांग सहित अन्य मांगे रखी गई थी लेकिन उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया अगर इसी तरह से उनकी मांगों को खारिज करते हुए उन्हें नजरअंदाज किया गया तो वह सभी कर्मचारी आंदोलन करने पर विवश होंगे। इस अवसर पर मो सरवर शिवपूजन दूबे सर्वेश मौर्य, इम्तियाज अली, नितिन, नेहा, सुमनलता, मेघा, सुजाता, सहित सभी संविदाकर्मी मौजूद रहे।