अपराधों के नटवरलाल को पुलिस ने दबोचा, गया जेल

कमिश्नरेट लखनऊ, प्रयागराज तथा प्रतापगढ़ में हत्या तथा लूट व धोखाधड़ी एवं जालसाजी का बेताज बादशाह वर्षो से था फरार

 

 

कोतवाली अभिरक्षा में धराया आरोपी

 

सगरा सुन्दरपुर प्रतापगढ़

 

 

लालगंज कोतवाली पुलिस ने धोखाधड़ी तथा जालसाजी व हत्या एवं लूट तथा छिनैती व दलित उत्पीड़न जैसे गंभीर वारदातों के पचीस हजार इनामिया बदमाश को धर दबोचा। पुलिस की गिरफ्त मे दबोचा गया आरोपी लालगंज कोतवाली का हिस्ट्रीशीटर भी है। हालांकि पुलिस की आंखो मे धूल झोंक रहा नटवर लाल बीच बीच में इलाके में समाजसेवा का भी चोला ओढ़े नजर आया करता था। कोतवाली के इटौरी गांव के आलोक मिश्र की पुलिस को इधर कई वर्षो से विभिन्न वारदातों को लेकर तलाश थी। आरोपी के लगातार फरारी के चलते बीते दो हजार सोलह के धोखाधडी के एक मुकदमें मे सक्षम न्यायालय ने उसके खिलाफ कुर्की की नोटिस भी जारी कर रखी थी। कोतवाली मे आरोपी के हिस्ट्रीसीट को देखते हुए हाल ही में उसकी गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने पचीस हजार रूपये का इनाम भी घोषित कर रखा था। बुधवार की देर शाम मुखबिरी सूचना पर स्थानीय कोतवाली पुलिस तथा जिले की क्राइम ब्रांच व प्रयागराज की एसटीएफ टीम ने संयुक्त रूप से दबिश देकर फरार आरोपी आलोक को उसके घर से दबोचने मे सफलता ले ली। प्रयागराज के एडीजी प्रेमप्रकाश तथा जिले के पुलिस कप्तान आकाश तोमर के निर्देशन मे पुलिस की इस बडी कार्रवाई से गुरूवार को इलाके मे हडकंप का माहौल देखा गया। वहीं गुरूवार को भी आरोपी आलोक मिश्र के खिलाफ उसके गांव इटौरी के पंचम सरोज की तहरीर पर बीती सोलह मई को जातिसूचक शब्दो से गालियां देने तथा मारपीट व स्टोर से लूट को लेकर केस दर्ज किया गया। कोतवाल रणजीत सिंह भदौरिया ने बताया कि पकडे गये पचीस हजार के इनामी नटवर लाल आलोक मिश्र ने धर्मा इण्टरप्राइजेज से मिलकर डिजिटल राशन कार्ड बनाने की एजेन्सी के नाम पर प्रदेश के कई जिले के लोगों से दस से पन्द्रह लाख रूपये की वसूली की थी। इसे लेकर राजधानी लखनऊ के कमिश्नरेट कोतवाली गाजीपुर मे अंकित सिंह की तहरीर पर केस दर्ज हुआ है। वहीं आरोपी आलोक मिश्र के खिलाफ स्थानीय कोतवाली लालगंज समेत लखनऊ व प्रयागराज में भी कई आपराधिक मुकदमें दर्ज है। लालगंज कोतवाली मे ही अकेले आलोक के खिलाफ तीन मुकदमें धोखाधडी तथा जालसाजी व कूटरचना, बलवा, लूट तथा घर मे घुसकर मारपीट के दर्ज है। वहीं प्रयागराज के सिविल लाइंस थाने में दो तथा धूमनगंज थाने में भी एक मुकदमा गंभीर अपराध का दर्ज है। सिविल लाइंस कोतवाली में आरोपी के खिलाफ धोखाधडी व गबन तथा धूमनगंज में हत्या की संगीन वारदात को लेकर मुकदमा दर्ज है। वहीं लखनऊ के गोमती नगर तथा गाजीपुर थाने मे धोखाधडी व जालसाजी व आपराधिक षडयंत्र का भी केस दर्ज है। आरोपी आलोक के गंभीर आपराधिक कारनामो को देखते हुए पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद से उसे कडी अभिरक्षा मे रखा था। पुलिस की पकड़ मे आये नटवर लाल की गिरफ्तारी गुरूवार को इलाके मे जंगल में आग की तरह फैल गयी। पुलिस को ही नहीं लोगों की आंखो मे भी अपने काले कारनामों को छिपाने के लिए आरोपी नटवर लाल बीच बीच में समाजसेवा का भी अच्छा खासा ढोंग रच लिया करता था। पिछले लाकडाउन में अपराध जगत के इस बहुरूपियें ने चोला बदलकर लोगों के बीच भोजन के पैकेट बांटने तो समाज के असरदार लोगों को सम्मानित करने का भी अच्छा खासा स्वांग रच रखा था। नटवर लाल की असलियत सुनते ही गुरूवार को सगरा सुंदरपुर तथा पहाड़पुर एवं लक्ष्मणपुर इलाके मे लोगों ने दांतो तले अंगुली दबा ली। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गैर कानूनी गोरखधंधा चलाने वाला शातिर आलोक मिश्र लखनऊ में सियासी संरक्षण मे भी पल रहा था। वह मंहगी लग्जरी गाड़ियों का शौकीन था तथा प्रशासन को भी झांसे मे लेने के लिए अपने सफेदपोश चोले के साथ निजी सुरक्षाकर्मियों का भी सशस्त्र जमावड़ा रखता था। कडे एहतियात के तहत आरोपी को कोर्ट ले जाया गया। ठगी तथा धोखाधडी व जालसाजी एवं हत्या व लूट जैसे गंभीर मामलों मे फरार चल रहे आरोपी आलोक की गिरफ्तारी को लेकर बेल्हा की पुलिस गुरूवार को खासे सकून मे देखी गई।

अपराधों के नटवरलाल को पुलिस ने दबोचा, गया जेल
कमिश्नरेट लखनऊ, प्रयागराज तथा प्रतापगढ़ में हत्या तथा लूट व धोखाधड़ी एवं जालसाजी का बेताज बादशाह वर्षो से था फरार

कोतवाली अभिरक्षा में धराया आरोपी

सगरा सुन्दरपुर प्रतापगढ़

लालगंज कोतवाली पुलिस ने धोखाधड़ी तथा जालसाजी व हत्या एवं लूट तथा छिनैती व दलित उत्पीड़न जैसे गंभीर वारदातों के पचीस हजार इनामिया बदमाश को धर दबोचा। पुलिस की गिरफ्त मे दबोचा गया आरोपी लालगंज कोतवाली का हिस्ट्रीशीटर भी है। हालांकि पुलिस की आंखो मे धूल झोंक रहा नटवर लाल बीच बीच में इलाके में समाजसेवा का भी चोला ओढ़े नजर आया करता था। कोतवाली के इटौरी गांव के आलोक मिश्र की पुलिस को इधर कई वर्षो से विभिन्न वारदातों को लेकर तलाश थी। आरोपी के लगातार फरारी के चलते बीते दो हजार सोलह के धोखाधडी के एक मुकदमें मे सक्षम न्यायालय ने उसके खिलाफ कुर्की की नोटिस भी जारी कर रखी थी। कोतवाली मे आरोपी के हिस्ट्रीसीट को देखते हुए हाल ही में उसकी गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने पचीस हजार रूपये का इनाम भी घोषित कर रखा था। बुधवार की देर शाम मुखबिरी सूचना पर स्थानीय कोतवाली पुलिस तथा जिले की क्राइम ब्रांच व प्रयागराज की एसटीएफ टीम ने संयुक्त रूप से दबिश देकर फरार आरोपी आलोक को उसके घर से दबोचने मे सफलता ले ली। प्रयागराज के एडीजी प्रेमप्रकाश तथा जिले के पुलिस कप्तान आकाश तोमर के निर्देशन मे पुलिस की इस बडी कार्रवाई से गुरूवार को इलाके मे हडकंप का माहौल देखा गया। वहीं गुरूवार को भी आरोपी आलोक मिश्र के खिलाफ उसके गांव इटौरी के पंचम सरोज की तहरीर पर बीती सोलह मई को जातिसूचक शब्दो से गालियां देने तथा मारपीट व स्टोर से लूट को लेकर केस दर्ज किया गया। कोतवाल रणजीत सिंह भदौरिया ने बताया कि पकडे गये पचीस हजार के इनामी नटवर लाल आलोक मिश्र ने धर्मा इण्टरप्राइजेज से मिलकर डिजिटल राशन कार्ड बनाने की एजेन्सी के नाम पर प्रदेश के कई जिले के लोगों से दस से पन्द्रह लाख रूपये की वसूली की थी। इसे लेकर राजधानी लखनऊ के कमिश्नरेट कोतवाली गाजीपुर मे अंकित सिंह की तहरीर पर केस दर्ज हुआ है। वहीं आरोपी आलोक मिश्र के खिलाफ स्थानीय कोतवाली लालगंज समेत लखनऊ व प्रयागराज में भी कई आपराधिक मुकदमें दर्ज है। लालगंज कोतवाली मे ही अकेले आलोक के खिलाफ तीन मुकदमें धोखाधडी तथा जालसाजी व कूटरचना, बलवा, लूट तथा घर मे घुसकर मारपीट के दर्ज है। वहीं प्रयागराज के सिविल लाइंस थाने में दो तथा धूमनगंज थाने में भी एक मुकदमा गंभीर अपराध का दर्ज है। सिविल लाइंस कोतवाली में आरोपी के खिलाफ धोखाधडी व गबन तथा धूमनगंज में हत्या की संगीन वारदात को लेकर मुकदमा दर्ज है। वहीं लखनऊ के गोमती नगर तथा गाजीपुर थाने मे धोखाधडी व जालसाजी व आपराधिक षडयंत्र का भी केस दर्ज है। आरोपी आलोक के गंभीर आपराधिक कारनामो को देखते हुए पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद से उसे कडी अभिरक्षा मे रखा था। पुलिस की पकड़ मे आये नटवर लाल की गिरफ्तारी गुरूवार को इलाके मे जंगल में आग की तरह फैल गयी। पुलिस को ही नहीं लोगों की आंखो मे भी अपने काले कारनामों को छिपाने के लिए आरोपी नटवर लाल बीच बीच में समाजसेवा का भी अच्छा खासा ढोंग रच लिया करता था। पिछले लाकडाउन में अपराध जगत के इस बहुरूपियें ने चोला बदलकर लोगों के बीच भोजन के पैकेट बांटने तो समाज के असरदार लोगों को सम्मानित करने का भी अच्छा खासा स्वांग रच रखा था। नटवर लाल की असलियत सुनते ही गुरूवार को सगरा सुंदरपुर तथा पहाड़पुर एवं लक्ष्मणपुर इलाके मे लोगों ने दांतो तले अंगुली दबा ली। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गैर कानूनी गोरखधंधा चलाने वाला शातिर आलोक मिश्र लखनऊ में सियासी संरक्षण मे भी पल रहा था। वह मंहगी लग्जरी गाड़ियों का शौकीन था तथा प्रशासन को भी झांसे मे लेने के लिए अपने सफेदपोश चोले के साथ निजी सुरक्षाकर्मियों का भी सशस्त्र जमावड़ा रखता था। कडे एहतियात के तहत आरोपी को कोर्ट ले जाया गया। ठगी तथा धोखाधडी व जालसाजी एवं हत्या व लूट जैसे गंभीर मामलों मे फरार चल रहे आरोपी आलोक की गिरफ्तारी को लेकर बेल्हा की पुलिस गुरूवार को खासे सकून मे देखी गई।