बजबजाती नाली से फैल रही दुर्गंध, बीमारी का बढ़ा खतरा

पट्टी नगर में सफाई व्यवस्था का दावा फेल, राहगीर नाक दबाकर गुजरते ह

अवधेश सिंह

पट्टी

पट्टी नगर में साफ सफाई के दावे बहुत किए जाते हैं लेकिन सैनिटाइजेशन और साफ सफाई सिर्फ कागजों पर ही दिखाई दे रहा है पट्टी वार्ड नंबर 2 के पास बजबजाती नाली और वहां से निकलता हुआ दुर्गंध लोगों के लिए भारी मुसीबत बन गया है इसके लिए कई बार नगर पालिका के अधिकारियों के शिकायत भी की गई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई पट्टी नगर में ढकवा मोड़ के पास स्वतंत्र चेतना का कार्यालय भी स्थित है उसी के समीप वार्ड नम्बर 2 कोटेदार अनिल सिंह के घर के समीप से निकली हुई नाली साफ सफाई ना होने के कारण बजबजा रही है जिसमें पॉलिथीन कूड़ा करकट पड़ा हुआ है कई बार नगर वासियों ने नगर पालिका के जिम्मेदार अधिकारियों और नगर अध्यक्ष को इस बारे में सूचित किया लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई ना तो कोई सफाई कर्मी इसे साफ करने के लिए आया और ना ही इसके संबंध में कोई आदेश जारी किया गया अब यहां से गुजरने वाला हर एक राहगीर अपनी नाक दबाकर वहां से गुजरता है बजबजाते हुए नाली से महामारी फैलने का खतरा बढ़ गया है एक तरफ सरकार जहां लगातार हर जगह साफ सफाई के लिए भारी भरकम धन खर्च कर रही है वहीं पट्टी नगर में साफ सफाई ना होने लोगों का आना-जाना मुश्किल हो गया है।

हर बार साफ सफाई से उपेक्षित रहता है महरूम

साफ सफाई के लिए यहां पट्टी नगर के मुख्य स्थलों और मेन रोड पर साफ सफाई की जाती है वही रिहायशी इलाकों में हमेशा उपेक्षा पूर्ण व्यवहार किया जाता है नालियों की सफाई ना होने से उसके समीप रहने वाले घरों में मच्छरों का प्रकोप अधिक देखा जाता है रोड के किनारे स्वतंत्र चेतना का कार्यालय और कई अखबारों के कार्यालय भी बनाए गए जहां पर लोगों का हमेशा उठना बैठना रहता है ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि अगर नालियों की सफाई सुचारू रूप से नहीं की गई तो निश्चित रूप से मलेरिया और अन्य बीमारियां तेजी से फैल सकती हैं।