गाजीपुर। चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार में मारे गए बाहुबली विधायक करीबी मेराज खां का शव शनिवार की सुबह वाराणसी के अशोक विहार कालोनी स्थित उसके आवास पर लाया गया। यहां कुछ समय रुकने के बाद भारी सुरक्षा में दोपहर में पैतृक गांव महेंद लाया गया। सुरक्षा के मद्देनजर गांव के आसपास का इलाका पुलिस छावनी में तब्दील रहा। परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में जुट गए।

मालूम हो कि चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार में मारे गए बाहुबली विधायक करीबी मेराज खां गाजीपुर जिले के करीमुद्दीनपुर थाना के महेंद गांव का निवासी था। पिछले 20 वर्षों से वाराणसी में अशोक विहार कोलनी में मकान बनवाकर परिवार के साथ रहता था। पिता जमालुद्दीन खां और मां का पहले ही इंतकाल हो चुका है। मेराज पांच भाइयों में चौथे नंबर पर था। पहले उसका शव आनंद विहार कालोनी में आया। इसके बाद भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दिन में करीब 1.10 बजे पैतृक आवास महेंद पहुंचा। चारों भाई वाराणसी के शव के साथ आए। ऐतिहात के तौर पर मुहम्मदाबाद सर्किल के करीमुद्दीनपुर, भांवरकोल, मुहम्मदाबाद, नोनहरा, बरेसर, कासिमाबाद थाना की फोर्स सहित एक टुकड़ी पीएसी के जवान तैनात रहे। क्षेत्राधिकारी मुहम्मदाबाद राजीव द्विवेदी के नेतृत्व में फोर्स गांव के ईद-गीर्द चक्रमण करती रही। मृतक मेराज के परिजनों ने बताया कि शाम पांच बजे के बाद जनाजे की नमाज अदा कर पैतृक कब्रिस्तान सुर्पुदे खाक किया जाएगा।गाजीपुर। चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार में मारे गए बाहुबली विधायक करीबी मेराज खां का शव शनिवार की सुबह वाराणसी के अशोक विहार कालोनी स्थित उसके आवास पर लाया गया। यहां कुछ समय रुकने के बाद भारी सुरक्षा में दोपहर में पैतृक गांव महेंद लाया गया। सुरक्षा के मद्देनजर गांव के आसपास का इलाका पुलिस छावनी में तब्दील रहा। परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में जुट गए।
मालूम हो कि चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार में मारे गए बाहुबली विधायक करीबी मेराज खां गाजीपुर जिले के करीमुद्दीनपुर थाना के महेंद गांव का निवासी था। पिछले 20 वर्षों से वाराणसी में अशोक विहार कोलनी में मकान बनवाकर परिवार के साथ रहता था। पिता जमालुद्दीन खां और मां का पहले ही इंतकाल हो चुका है। मेराज पांच भाइयों में चौथे नंबर पर था। पहले उसका शव आनंद विहार कालोनी में आया। इसके बाद भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दिन में करीब 1.10 बजे पैतृक आवास महेंद पहुंचा। चारों भाई वाराणसी के शव के साथ आए। ऐतिहात के तौर पर मुहम्मदाबाद सर्किल के करीमुद्दीनपुर, भांवरकोल, मुहम्मदाबाद, नोनहरा, बरेसर, कासिमाबाद थाना की फोर्स सहित एक टुकड़ी पीएसी के जवान तैनात रहे। क्षेत्राधिकारी मुहम्मदाबाद राजीव द्विवेदी के नेतृत्व में फोर्स गांव के ईद-गीर्द चक्रमण करती रही। मृतक मेराज के परिजनों ने बताया कि शाम पांच बजे के बाद जनाजे की नमाज अदा कर पैतृक कब्रिस्तान सुर्पुदे खाक किया जाएगा।