किरकिरी के बीच वरूण हत्याकाण्ड के दो और आरोपी खाकी के हाथ लगे, गये जेल

लालगंज, प्रतापगढ़। कोतवाली के हदिराही गांव में वरूण तिवारी हत्याकांड में पुलिस की हो रही भारी किरकिरी के बीच दो अन्य नामजद आरोपी भी गुरूवार को पुलिस हिरासत मे ले सकी। पुलिस के हाथ लगे एक आरोपी के पास से तमंचा तथा कारतूस भी बरामद हुआ है। इसे लेकर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आर्म्स एक्ट का भी केस दर्ज किया है। हदिराही गांव में प्रधान पद के चुनाव को लेकर रंजिश में आरएसएस के कार्यकर्ता वरूण तिवारी को बीती तेईस अप्रैल को गोली मार दी गई थी। इलाज के दौरान वरूण की मौत हो गयी। परिजन अंतिम संस्कार के दिन वरूण की हत्या मे शामिल आरोपियों को सह देने के लिए कोतवाली मे तैनात हल्का के एक दरोगा को लेकर खासे आक्रोशित हो उठे थे। पुलिस लापरवाही को लेकर घटनाक्रम में सीओ से लोगों की नोंकझोंक भी हो गयी थी। प्रभारी कोतवाल रामानुज यादव के मुताबिक गुरूवार को सगरा सुंदरपुर बाजार से हत्याकांड मे आरोपी रिंकू वर्मा तथा लालगंज बाजार से आरोपी संगमलाल वर्मा को हिरासत मे लिया गया। आरोपी रिंकू की तलाशी लेने पर उसके पास से एक तमंचा तथा एक कारतूस भी बरामद हुआ। पूछताछ के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियो को दोपहर बाद जेल भेज दिया। इधर वरूण की हत्या को लेकर हदिराही में गुरूवार को भी अंदर ही अंदर गम व गुस्से का माहौल बदस्तूर बना हुआ दिखा। पीड़ित परिवार अभी भी पुलिस कार्यवाही से संतुष्ट नही नजर आ रहा है। परिजनों का आरोप है कि कोतवाली मे तैनात दरोगा के रहते अभी भी उनके परिवार पर खतरे का साया है। वहीं चर्चा है कि एसपी की नाराजगी तथा इलाके व मीडिया में हो रही छीछालेदर को लेकर पुलिस ने घटना मे देा अन्य आरोपियों को हिरासत मे लेने की जहमत उठाई। अब तक पुलिस सात नामजद आरोपियों मे से चार को जेल भेज चुकी है। इसके पहले प्रधान नन्हें वर्मा व उसके पुत्र जीतेन्द्र को भी पुलिस द्वारा जेल भेजा जा चुका है। सीओ जगमोहन का कहना है कि पुलिस शीघ्र ही शेष आरोपियो को हिरासत मे लेगी, पीडित परिवार को सुरक्षा के लिए पुलिस बल की पर्याप्त तैनाती की गई है।