किशोर की लाश देख बिलख पड़े परिजन

 

 

 

प्रतापगढ़। मौसी के घर मुरादाबाद से लौट रहे किशोर की लाश प्रयागराज के सोरांव में हाईवे किनारे मिली। परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है। शव का पोस्टमार्टम कराकर पुलिस एक्सीडेंट मानते हुए जांच कर रही है।

 

मानधाता थानाक्षेत्र के ढेमा निवासी जिब्राइल के 6 बेटे-बेटियों में सबसे बड़ा सरमद (15) था। करीब पखवाड़ाभर पहले वह अपनी मौसी के पास मुरादाबाद गया था। वहां वह एक होटल पर काम करने लगा था, लेकिन उसका मन वहां नहीं लगा तो वह घर लौट रहा था। शुक्रवार को वह बस से घर आ रहा था। शुक्रवार रात करीब पौने नौ बजे उसने फोन कर घरवालों को बताया कि वह रायबरेली पहुंचा है। इसके बाद रात में घरवालों ने कई बार प्रयास किया लेकिन उसका मोबाइल नम्बर नहीं लगा। शनिवार सुबह घरवालों ने फिर से उसके मोबाइल पर फोन पर लगाया तो कॉल गई लेकिन किसी अनजान व्यक्ति ने हैलो कहकर कॉल काट दी। इसके बाद से फोन स्विच ऑफ हो गया। इससे परिजन परेशान हो उठे। मोबाइल फोन की लोकेशन प्रयागराज बताने लगी। फिर पता चला कि शनिवार रात करीब 2 बजे उसकी लाश प्रयागराज के सोरांव थानाक्षेत्र स्थित हंडिया कोखराज हाईवे पर कृष्णा ढाबे के पास सड़क किनारे मिली है। सिर में गंभीर चोटें थी। लाश से करीब 50 मीटर पहले उसका मोबाइल फोन गिरा मिला। सोरांव पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस एक्सीडेंट से मौत की बात मान रही है। उधर रोते-बिलखते परिजनों ने शव गांव ले जाकर रविवार शाम अंतिम संस्कार कर दिया।

 

सोरांव कैसे पहुंच गया किशोर

 

 

वैशपुर। सरमद की मौत को पुलिस भले ही एक्सीडेंट बता रही है लेकिन परिजनों के मन में कई सवाल उठ रहे हैं। इससे उन्हें हत्या की आशंका सता रही है।

 

जिब्राइल का बेटा सरमद प्रतापगढ़ की बजाय सोरांव कैसे पहुंच गया, इस सवाल का जवाब किसी को नहीं सूझ रहा है। जिब्राइल के बड़े भाई मोहम्मद इसराइल का कहना है कि सरमद को रायबरेली से प्रतापगढ़ होते हुए मऊआइमा आना था। लेकिन वह प्रयागराज के सोरांव थानाक्षेत्र स्थित हंडिया कोखराज हाईवे पर कैसे और क्यों पहुंच गया। शनिवार सुबह सरमद का मोबाइल फोन किसने रिसीव किया था। फोन रिसीव करने वाले ने बात करने की बजाय फोन स्विच ऑफ क्यों कर दिया था। इन्हीं सवालों का जवाब न मिलने से परिजनों को तरह-तरह की आशंका सता रही है।

 

संवाददाता अनुराग उपाध्याय पीआई न्यूज़