इंसाफ का यह हाल है, तो कौन अदालत में जाएगा? – मारुफ अंसारी

लार,देवरिया।मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव मारुफ अंसारी ने आजम खान की विधानसभा सदस्यता रद्द हो जाने पर सवाल खड़े करते हुए। उन्होंने कहा है कि भाजपा सरकार और विपक्ष के विधायकों के साथ अलग-अलग बर्ताव हो रहा है।
आज से चंद दिनों पूर्व ही बीजेपी नेता संगीत सोम भी ‘हेट स्पीच’ के एक मामले में दोषी पाए गए थे, जिन पर माननीय अदालत ने सिर्फ 800 रुपये का जुर्माना लगाया था। अब समाजवादी पार्टी के नेता जनाब मो० आज़म खान साहब भी ‘हेट स्पीच’ के दोषी पाए गए हैं, उन पर 6000 रुपये का जुर्माना हुआ है और तीन साल जेल की सजा हुई है। मो.आजम खां साहब की विधानसभा सदस्यता भी समाप्त कर दी गई है। इंसाफ का यह हाल है, तो कौन अदालत में जाएगा? बाकी अदालत के फैसले का सम्मान है।
हाल ही में मुजफ्फरनगर दंगा मामला में भाजपा के खतौली विधायक को दो साल की सजा हुई है। इसके बावजूद उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। श्री अंसारी ने सवाल किया है कि अगर दो साल की सजा होने पर सदस्यता जाने का कानून है तो ये सिर्फ आजम खान पर ही कैसे लागू है। भाजपा के विक्रम सैनी क्यों दो साल की सजा होने के बाद भी विधायक बने हुए हैं।