लक्ष्मण को मूर्छित देख रो पड़े भगवान श्री राम..जामताली शुक्लान मे मनोहारी रामलीला का हुआ भव्य मंचन

प्रतापगढ़।श्री रामलीला समिति शुक्लान जामताली द्वारा लक्ष्मण शक्ति का भव्य मंचन किया गया। लक्ष्मण को शक्तिबाण लगते ही रामा दल में हड़कंप मच गया। मूर्छित लक्ष्मण को हनुमान जी कंधे पर लादकर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के पास पहुंचे तो लक्ष्मण की हालत देखकर राम विह्वल हो उठे। और विलाप करने लगे। भगवान श्री राम के करुण विलाप को देखकर दर्शकों की आंखों से आंसू छलक पड़े। आनन-फानन में सुखेंन वैद्य को बुलाया गया। सुखेंन वैद्य की सलाह पर हनुमान जी संजीवनी बूटी ले आए। संजीवनी बूटी पिलाते ही लक्ष्मण होश में आ गए। लक्ष्मण की मूर्छा दूर होते ही रामा दल में खुशियां छा गई। और दोनों भाई गले मिले तो नयनाभिराम दृश्य देखकर राम के जयकारे लगे लगे। और जय श्रीराम के उद्घोष से जामताली क्षेत्र गूंज उठा। इसके बाद फिर मेघनाथ का वध , अंगद रावण संवाद का भव्य मंचन किया गया। मनोहारी रामलीला देख कर भक्तगण भक्ति रस वर्षा में सराबोर होकर आधी तक गोता लगाते रहे।

यहां पर मनोहारी रामलीला में राम का अभिनय दीपक राम त्रिपाठी, लक्ष्मण का आदित्य शुक्ल, भरत का शुभम शुक्ल, शत्रुघ्न का छोटू दुबे, सीता का शनि शुक्ल, हनुमान का मान सिंह, दशरथ का विमल दुबे, कैकेई का ओम प्रकाश, रावण का महेश शुक्ल सहित कलाकारों ने रामलीला में अभिनय किया। इस दौरान रामलीला समिति के अध्यक्ष दिनेश कुमार दुबे एडवोकेट ने अपने संबोधन में कहा कि धर्म से बड़ा कोई कार्य नहीं होता है। रामलीला मंचन से समाज को सजोने संवारने व संस्कार कारवान बनने की सीख मिलती है। और धर्म के साथ आस्था प्रगाढ़ होती है। इस अवसर पर प्रमुख रूप से सुधाकर दत्त मिश्र, दिनेश कुमार दुबे, प्रेम कुमार ओझा,विमल दुबे, अमित शुक्ल, अनुराग शुक्ल, दिनेश शुक्ल, अमर सिंह, मुन्ना शुक्ल, पंकज शुक्ल, महेश शुक्ल, चेतन शुक्ल, संतोष शुक्ल, रोहित दुबे, पंकज पांडेय, ओम प्रकाश, बैजनाथ करमचंद उमर वैश्य,दिलीप मोदनवाल, दिनेश सोनी सहित लोगों का व्यवस्था में सराहनीय सहयोग रहा।

रिपोर्ट… ज्ञान सिंह पी आई न्यूज़
प्रदेश प्रभारी उत्तर प्रदेश