प्राथमिक विद्यालयों में सम्पूर्ण आधारभूत साक्षरता और संख्या ज्ञान अनिवार्य रुप से हासिल करना सर्वोच्च प्राथमिकता : अनिल कुमार सिंह

बीईओ बेलखरनाथ धाम ( प्रतापगढ)! नयी शिक्षा नीति में बच्चों की परिचित मातृभाषा में शिक्षण महत्वपूर्ण एवं आवश्यक है ! बुनियादी भाषा एवं बुनियादी गणित की समझ पर शिक्षा के प्रभाव का अध्ययन हमें करना होगा! निपुण भारत मिशन के अन्तर्गत बेसिक शिक्षकों के 4 दिवसीय प्रशिक्षण का उद्घाटन करते हुए यह विचार बीईओ अनिल कुमार सिंह ने बीआरसी शीतलागंज में ब्यक्त किया! बीईओ ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलित किया!

प्राथमिक शिक्षक संघ जिलाध्यक्ष रमाशंकर शुक्ल ने कहा कि शुरुआती मानसिक विकास बच्चों की शिक्षा एवं भविष्य के लिए महत्त्वपूर्ण है। पूरे प्रदेश में बुनियादी साक्षरता और गणना हासिल करने के लिए हमने निपुण भारत को अपनाया है। इस जंग में सफल होने के लिए, हमें सबसे पहले निपुण भारत को एक जन आंदोलन के रूप में चलाना होगा ।
केआरपी सन्दर्भदाता डा०विनोद त्रिपाठी ने कहा कि निपुण भारत मिशन केवल कुछ मेधावी छात्रों के बल पर आगे नहीं बढ़ सकता बल्कि हमें हर एक छात्र को साथ लेकर, निपुण बनाकर, आगे बढ़ाना होगा।
प्रभजीत कौर ने कहा कि निपुण भारत के लक्ष्यों को प्राप्त करने का दायित्व हम सबके कन्धों पर है! हम सब मिलकर बनाएँगे उत्तर प्रदेश को निपुण प्रदेश ।
इस मौके पर एआरपी वैभव श्रीवास्तव, डा०मनोज तिवारी, डा०दिनेश वर्मा, मोहम्मद अफजल एआरपी और शब्बीर अहमद आदि ने विचार ब्यक्त किया! बिंदु वर्मा संवाददाता पट्टी प्रतापगढ़।