अगर समय से पहुंच जाती डायल 108 एंबुलेंस तो बचजातीराममूर्ति तिवारी की जान

पट्टी, प्रतापगढ़! पट्टी तहसील क्षेत्र के मोलानापुर गांव में बृहस्पतिवार को राममूर्ति तिवारी उम्र 65 वर्ष के सीने में अचानक तेजी से दर्द उठा तो उन्होंने इसकी जानकारी परिजनों को दी घर में मौजूद पत्नी और बेटों ने तुरंत डायल 108 से मदद लेने के लिए जुट गए परिजनों ने बताया कि लगातार 2 घंटे तक अलग-अलग मोबाइल नंबरों से फोन किया गया 108 एंबुलेंस से से संपर्क बना रहा लेकिन एंबुलेंस पीड़ित के घर नहीं आई और आखिरकार राममूर्ति तिवारी एंबुलेंस के इंतजार में दुनिया से ही चल दिए मृतक के घर में बड़ा बेटा आशीष तिवारी और अवनीश तिवारी तथा पत्नी शशि कांति देवी का रो रो कर बुरा हाल मृतक के घर की स्थिति बहुत ही दैनीय है ना कोई कमाने वाला है मृतक के परिजनों को आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है अगर एंबुलेंस सूचना पर आ गई होती तो समुचित इलाज मिल गया होता तो संभवत राम मूरत की जान बच सकती थी। बताते चलें कि एंबुलेंस 108 समय से ना मिलने के कारण लोग अपनी जान गवा देते। वहीं पर सरकार द्वारा गरीबों की मदद के लिए डायल 108 एंबुलेंस संचार कर आया था जिससे लोगों को सुविधा मिल सके  लेकिन  गरीबों तक समय से उपलब्ध नहीं हो पाता है लोग अपनी जान गवा देते फिलहाल इस मामले में सरकार को संज्ञान में लेकर गंभीर होनी चाहिए जिससे गरीबों की मदद हो सके। मुस्ताक अहमद संवाददाता प्रतापगढ़।