जिम्मेदारों ने फेरा मुंह तो ग्रामीणों ने खुद शुरू कर दी नहर की सफाई

पट्टी।
जब जिम्मेदारों ने अपना काम बाखूबी नहीं किया तो ग्रामीण किसानों ने खेतों की सिंचाई के लिए नहर की सफाई खुद शुरू कर दिया। किसान खेतों में पानी ना जाने से परेशान दिखाई दे रहे थे । सिंचाई महकमे उम्मीद छोड़ कर किसान फावड़ा लेकर नाहर में साफ सफाई करने के लिए खुद जुट गए।
पट्टी नगर से होकर शारदा सहायक खंड 36 भानेपुर माइनर भरोखन उमरडीहा होते हुए रूर, रघईपुर से रेडीगारापुर से होते हुए जौनपुर चली जाती है।
फतेहपुर तिवारीपुर के पास एक नहर उससे जुड़ी हुई है जो फतेहपुर तिवारीपुर रमईपुर से होते हुए भोपालपुर गांव के लिए निकल जाती है । नहर की इस शाखा में पानी न होने से किसानों की फसल सूख जाती है। इस समय धान की फसल पानी ना बरसने के कारण काफी प्रभावित हो रही है और किसानों के लिए नहर ही एकमात्र सहारा है , लेकिन नहर की सफाई ना होने के कारण किसानों के खेतों तक पानी नहीं पहुंच पाता है। जिसके किसानों की खेती प्रभावित हो रही है।
गुरुवार को खेत में पानी न पहुंचने से परेशान फतेहपुर गांव के रहने वाले शिवम पटेल, सुनील पटेल ,रमाशंकर बसंत लाल, दिनेश ,कमला प्रसाद, नंदलाल आदि लोग फावड़ा लेकर नहर में घुस गए । दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने 2 घंटे से अधिक समय तक नहर की सफाई में जुटे रहे । इस संबंध में गांव के रहने वाले शिवम पटेल ने बताया कि हर वर्ष नहर की इस शाखा से पानी किसानों के खेतों तक नहीं पहुंच पाता है जिसके कारण किसान की खेत की फसल प्रभावित होती है इस समय धान की फसल के लिए पानी बहुत आवश्यक है नहर में पानी तो आता है लेकिन सफाई न होने के कारण खेत में पानी नहीं पहुंच पाता है।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

इस संबंध में सिंचाई विभाग के एसडीओ तेज प्रकाश से बात करने पर उन्होंने बताया कि नहर की साफ सफाई के लिए समिति का गठन किया गया है हमारी जानकारी में मामला सामने नहीं आया है मामले की जांच कराई जाएगी। बिंदु वर्मा संवाददाता पट्टी प्रतापगढ़